ऑनलाइन निवेश

पैसा में खाता प्रकार

पैसा में खाता प्रकार
म्यूचुअल फंड निवेशकों को अच्छा रिटर्न दे सकते हैं, साथ ही कठिनाई के समय में उनके खिलाफ उधार लेने की क्षमता भी प्रदान कर सकते हैं। कई बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (NBFC) आपके द्वारा म्यूचुअल फंड में निवेश की गई राशि के विरुद्ध पैसा में खाता प्रकार ऋण प्रदान करती हैं। यह सिर्फ एक प्रकार का बंधक ऋण है। इसकी ब्याज दर व्यक्तिगत ऋण की तुलना में कम है और आमतौर पर 9 से 13% तक होती है। आप आमतौर पर अपनी इक्विटी म्यूचुअल फंड इकाइयों के मूल्य का 50 से 60 प्रतिशत तक उधार ले सकते हैं।

savings account kya hai

पैसे उधार कैसे लें भारत में ? जानिए 8 आसान तरीके

क्या आपको पैसों की जरूरत है लेकिन आपके पास पैसों की कमी है और आप सोच रहे हैं कि क्या पैसे उधार लेना एक अच्छा समाधान है? अगर आप ऐसा पैसा में खाता प्रकार सोच रहे हैं तो यह पूरी तरह से सामान्य है क्योंकि उच्च शिक्षा, शादी, नए घर, नए व्यवसाय, आदि के खर्चों को पूरा करने के लिए प्रत्येक वयस्क को अपने जीवन में किसी स्थान पर पैसे उधार लेने की आवश्यकता होती है। सौभाग्य से, आज के टाइम में कई विश्वसनीय ऋणदाता और वित्तीय उत्पाद आपको जरूरत पड़ने पर धन उधार पैसा में खाता प्रकार लेने में मदद कर सकते हैं।

जबकि पैसे उधार लेने की बारीकियां आपके द्वारा मांगे जा रहे ऋण के प्रकार के आधार पर अलग हो सकती हैं, उधार लेना अनिवार्य रूप पैसा में खाता प्रकार से किसी से पैसा लेने का कार्य है, और आप इस उधार को भविष्य में ब्याज के साथ चुकाएंगे।

पैसे उधार लेने से पहले आपको जिन कारकों पर विचार करना चाहिए

हालांकि, पैसे उधार लेने से पहले आपको कुछ कारकों पर विचार करना चाहिए जो कि निम्नलिखित हैं:

  • उच्च ब्याज भुगतान से बचने के लिए ऋण अवधि कम से कम होनी चाहिए।
  • ईएमआई आपके पास मौजूद वित्तीय संसाधनों के साथ देय होनी चाहिए।
  • पैसे उधार लेने पर कम दरों की तलाश करें या अपने ऋण को कम दरों की पेशकश करने वाले स्रोत पर स्थानांतरित करें और हमेशा फौजदारी लागत को ध्यान में रखें।
  • टैक्स लाभ लंबे समय में पैसे बचाने के बराबर नहीं हैं, इसलिए केवल कर लाभ प्राप्त करने के लिए पैसे उधार न लें या अपने ऋण चुकौती को लम्बा न करें।
  • अपनी जरूरत की न्यूनतम राशि उधार लें ताकि आपकी ईएमआई आपकी मासिक आय के 40% से कम हो पैसा में खाता प्रकार और आपका ऋण-से-आय अनुपात कम हो।

अपनी सभी जरूरतों के लिए उधार लें!

भारत में पैसे उधार लेने के सर्वोत्तम तरीके

भारत में ऑनलाइन पैसे उधार लेने के 5 बेहतरीन तरीके हैं:

  1. मनी क्लब चिट फंड प्लेटफॉर्म

चिट फंड आपको पैसे बचाने के साथ-साथ उधार लेने की अनुमति देता है। डिजिटलीकरण के साथ, चिट फंड ऑनलाइन हो गए हैं, जैसे द मनी क्लब में, जहां एक सत्यापित सदस्य एक सरल प्रक्रिया के माध्यम से भारत में कहीं से भी क्लब में शामिल हो सकता है। लोगों का एक समूह सदस्यों की संख्या के बराबर कुल अवधि के लिए चिट फंड में मासिक योगदान देता है। एकत्र की गई राशि उस व्यक्ति को दी जाती है जो या तो लकी ड्रा या नीलामी द्वारा जीतता है। चिट फंड प्रणाली कम ब्याज दरों पर उच्च लाभांश देती है।

द मनी क्लब तेज़ी से बढ़ने वाला डिजिटल चिट फंड प्लेटफॉर्म है जहां आप अपने स्मार्टफोन के माध्यम से कुशलतापूर्वक बचत, निवेश या उधार ले सकते हैं। आप कम से कम 200 रुपये की राशि से बचत शुरू कर सकते हैं। बैंक FD और RD से मिलने वाले रिटर्न से 3-4 गुना अधिक ब्याज भी कमा सकते हैं। मनी क्लब के कुल पंजीकृत सदस्य 2.59 लाख से अधिक हैं और ऐप डाउनलोड करने वालों की कुल संख्या 2.98 लाख से अधिक है। मनी क्लब ने भारत के 350 से भी ज़्यादा शहरों के लोगों को आकर्षित किया है।

बचत खाता क्या है

बचत खाता या Savings Account किसी बैंक या डाकघर शाखाओं में खुलने वाला एक सामान्य बचत खाता होता है जिसमें खाताधारक की सुविधानुसार और नियमानुसार किसी भी समय धनराशि की लेन-देन या जमा-निकासी की जा सकती है।

किसी भी बैंक या डाकघर बचत खाते में जमा धनराशि पर खाताधारक को नियमानुसार ब्याज भी देय होता है परन्तु भारत में मौजूद सभी सरकार समर्थित निवेश योजनाओं में से बचत खाते पर ब्याज दर न्यूनतम होती है। न्यूनतम ब्याज दर होने के बावजूद बैंक या डाकघर बचत खाते में धनराशि की सुरक्षा और विश्वसनीयता एवं लेन-देन या जमा-निकासी की आसानी व्यक्तियों को बचत खाता खोलने के लिए प्रेरित करती है।

बचत खाता कौन खुलवा सकता है

भारत में 18 वर्ष की आयु प्राप्त कोई भी भारतीय नागरिक सम्बंधित बैंक/ डाकघर शाखा में KYC दस्तावेज़ दिखा कर अपने नाम से बचत खाता (Savings Account) खुलवा सकता है। भारत में पैसा में खाता प्रकार बचत खाता किसी एक व्यस्क व्यक्ति के नाम से एकल रूप से या दो व्यस्क व्यक्तियों के नाम से संयुक्त रूप से खुलवाया जा सकता है। यदि 18 वर्ष से कम आयु के अवयस्क बालक के लिए बचत खाता खुलवाना है तो वह उसके माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा खुलवाया जा सकता है।

भारत में बचत खाता किसी भी नामित बैंक या डाकघर शाखा में खुलवाया जा सकता है।

भारत में बचत खाते कितने प्रकार के होते हैं

भारत में निम्नलिखित प्रकार के बचत खाते (Savings Account) खोले जाने का विकल्प उपलब्ध है:-

  • नियमित बचत खाता
  • वेतन आधारित बचत खाता
  • वरिष्ठ नागरिक बचत खाता
  • नाबालिगों के लिए बचत खाते
  • जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट; आदि

आप उपरोक्त लिखित बचत खातों में से अपनी इच्छा और योग्यता के अनुसार कोई भी बचत खाता खुलवा सकते हैं।

बचत खाते पर ब्याज दर

भारत में बचत खातों पर ब्याज दर समय-समय पर बदलती रहती है और यह विभिन्न बैंकों के लिए और खाते में जमा कुल धनराशि के अनुसार भी भिन्न-भिन्न हो सकती है। अतः किसी भी बैंक या डाकघर में बचत खाता (Savings Account) खुलवाने से पहले सम्बंधित ब्याज दर अवश्य जाँच लें।

भारत में बचत खातों पर मिलने वाली ब्याज राशि आयकर (इनकम टैक्स) के अधीन आती है और इस पर खाताधारक को नियमानुसार इनकम टैक्स जमा कराना होता है।

पैसा में खाता प्रकार

Please Enter a Question First

बैंकिंग एवं कराधान

वह खाता जिसमें निश्चित अवधि के .

Updated On: 27-06-2022

UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

आवर्ती जमा खाता सावधि जमा खाता चालु खाता बचत खाता ।

Get Link in SMS to Download The Video

Aap ko kya acha nahi laga

हेलो दोस्तों हमेशा में प्रश्न है वह खाता जिसमें निश्चित अवधि के समाप्त होने पर ही जमा राशि निकाली जा सकती है ऐसा खाता कौन सा होता कि हमें बताना तो उसके लिए विकल्प है आवर्ती जमा खाता भी सावधि जमा खाता सी चालू खाता पैसा में खाता प्रकार ऑडी बचत खाता तो दोस्तों पहले हम जानते हैं कि आवर्ती जमा खाता क्या होता है वह देखिए आवर्ती जमा खाता होता है वह खाता यह भी एक प्रकार का सावधि जमा खाता ही है जिसमें हमें सऊदी की तरह एक बार में पैसे नहीं डालने पड़ते लेकिन किंतु आवर्ती जमा खाता में हम एक निश्चित अंतराल तक कुछ समय तक जैसे माली के 12 महीने तक तो हमें हम प्रत्येक हर महीने कुछ कुछ रुपए करते हुए एक निश्चित राशि एक अकाउंट खाते में हमें डालना पड़ता है और उसके उस पर हमें जो बचत खाता है उससे थोड़ा ज्यादा ब्याज प्राप्त होता है कि तू सऊदी से थोड़ा कम और सऊदी क्या होता है तो उसका तो सावधि जमा खाता एक ऐसा खाता है जिसमें

जानिए क्‍या होता है करेंट अकाउंट?

photo

करेंट अकाउंट बिजनेस चलाने वाले लोगों के लिए एक बैंक खाता होता है. यह रोजमर्रा के बिजनेस ट्रांजेक्‍शन करने की सहूलियत देता है.

2. करेंट अकाउंट में पड़े पैसे को किसी भी समय बैंक की शाखा या एटीएम से निकाला जा सकता है. इसमें किसी तरह की कोई बंदिश नहीं होती है. खाताधारक कितनी भी बार चाहें पैसे को निकाल जमा कर सकते हैं. यानी पैसा में खाता प्रकार चालू खाते में आप अपनी मर्जी से दिन में जितने चाहें उतने लेनदेन कर सकते हैं.

3. इस खाते का इस्‍तेमाल इलेक्‍ट्रॉनिक ट्रांजेक्‍शन या चेक ट्रांजेक्‍शन के लिए होता है.

4. बिजनेस की जरूरत के अनुसार करेंट अकाउंट में जमा पैसा अक्‍सर फ्लक्‍चुएट (ऊपर-नीचे) हुआ करता है. लिहाजा, बैंक इस पैसे का इस्‍तेमाल नहीं करते हैं. कह सकते हैं कि बैंकों से मिलने वाली यह खास तरह की सुविधा होती है.

Bank Account Alert: भूलकर भी न करें ये चार गलतियां, बंद हो सकता है बैंक खाता, जानें क्यों

बैंक अकाउंट फ्रीज होने के कारण

आज के समय में लगभग हर किसी के पास अपना बैंक खाता है। यहां तक कि कई लोगों के पास तो एक से ज्यादा बैंक खाते होते हैं। लोग बैंक खाते पैसा में खाता प्रकार में अपनी मेहनत की कमाई को रखते हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर इस पैसे का इस्तेमाल कर सके। बैंक खाता खुलवाने पर डेबिट कार्ड, चेक बुक, इंटरनेट बैंकिंग जैसी कई अन्य सुविधाएं भी मिलती हैं। बैंक अकाउंट सेविंग, जीरो बैलेंस या करंट अकाउंट होते हैं। भले ही हम अपने बैंक खाते का इस्तेमाल करते रहते हों, लेकिन कई लोगों के साथ दिक्कत होती है कि वो अपने बैंक खाते का इस्तेमाल नहीं करते हैं। शायद आप ये नहीं जानते होंगे कि हमारी कुछ गलतियां हमारें बैंक खाते को बंद तक करवा सकती है। इसलिए जरूरी है कि बैंक खाता खुलवाने के बाद कुछ बातों का ध्यान पैसा में खाता प्रकार रखा जाए। तो चलिए आपको इस बारे में बताते हैं। आप अगली स्लाइड्स में उन कारणों को जान सकते हैं, जिनकी वजह से आपका बैंक खाता बंद तक हो सकता है.

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 569
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *