ऑनलाइन निवेश

Platform ऐप

Platform ऐप

सोशल नेटवर्किंग और मैसेजिंग ऐप

YouTube, Snapchat और Instagram के साथ-साथ, ऐसे कई ऐप हैं जिनका उपयोग बच्चे एक-दूसरे के साथ बातचीत करने और अपने जीवन को ऑनलाइन साझा करने के लिए करते हैं। ये क्या हैं और आपको किन ऐप्स से अवगत होना है, इस बारे में सलाह लें।

पेज पर क्या है?

पीडीएफ छवि

पीडीएफ छवि

पीडीएफ छवि

पीडीएफ छवि

युवा लोगों को सोशल मैसेजिंग ऐप के संभावित जोखिम क्या हैं?

सोशल नेटवर्किंग और मैसेजिंग ऐप युवा लोगों को स्कूल के दोस्तों, दूर के दोस्तों या ऑनलाइन दोस्तों के साथ सामाजिक रिश्ते बनाए रखने की अनुमति देते हैं जो वे कभी नहीं मिले हैं। हालाँकि, कुछ महत्वपूर्ण सुरक्षा मुद्दे हैं जो माता-पिता के रूप में जानने लायक हैं।

अजनबियों से चैटिंग

अजनबियों के साथ ऑनलाइन मिलना और चैट करना उन युवाओं के लिए जोखिम पैदा करता है जो कमजोर हो सकते हैं संवारने और यौन शोषण के ऑनलाइन (और ऑफलाइन) रूप।

अनुचित सामग्री भेजना

एक स्क्रीन के भौतिक अवरोध के साथ, कुछ लोग दूसरों पर दबाव बनाने के लिए अधिक सशक्त महसूस करते हैं संदेश भेजना, अक्सर यौन या अपमानजनक प्रकृति का.

एक स्थान साझा करना

कई ऐप पहचान या फोन नंबर की जानकारी के आधार पर काम करते हैं। कई मामलों में ऐप्स हमेशा आपको यह नहीं बताते हैं कि इस जानकारी का उपयोग किया जा रहा है, जिसका अर्थ है कि बच्चे व्यक्तिगत जानकारी साझा कर सकते हैं। साथ ही सामाजिक नेटवर्क पर, अधिकांश उपकरणों पर गोपनीयता और सुरक्षा सेटिंग्स उपलब्ध हैं। आप हमारे यहां और जान सकते हैं गोपनीयता और पहचान की चोरी सलाह हब।

जानकारी साझा करना

कई ऐप पहचान या फोन नंबर की जानकारी के आधार पर काम करते हैं। कई मामलों में ऐप आपको हमेशा यह नहीं बताते हैं कि इस जानकारी का उपयोग किया जा रहा है, जिसका अर्थ है कि बच्चे व्यक्तिगत जानकारी साझा कर सकते हैं। साथ ही सोशल नेटवर्क पर खुद गोपनीयता और सुरक्षा सेटिंग्स अधिकांश उपकरणों पर उपलब्ध हैं।

Cyberbullying

स्मार्टफोन लोगों को फ़ोटो लेने और अपने सोशल नेटवर्क पर तुरंत साझा करने या सेकंड में किसी के बारे में ऑनलाइन जानकारी पोस्ट करने की अनुमति देता है। कभी-कभी इसका मतलब यह हो सकता है कि युवा लोग एपिसोड के अधिक कमजोर होते हैं साइबर धमकी.

शरीर की छवि का विरूपण

स्नैपचैट और Platform ऐप इंस्टाग्राम जैसे फोटोशेयरिंग ऐप की लोकप्रियता बढ़ने के साथ ही बच्चों में इसकी कमी महसूस हो रही है शरीर की सुंदर छवियों के अनुरूप दबाव वे ऐसा करते हैं, प्रचार करने के लिए बात करना महत्वपूर्ण है सकारात्मक शरीर की छवि और बच्चों को यह समझने के लिए कि वे ऑनलाइन क्या देखते हैं, एक क्रिमिनल सोच विकसित करने में मदद करें।

Platform ऐप

Already registered? Back to LOGIN

Don't have an account? Register

App creator-Instappy

Thank you for signing up!

Please verify your email.

As part of a special promotion we are offering you app building assistance and expert consultation at ZERO cost.
Please expect our call from +13152772557. We are looking forward to get your app started!

App creator-Instappy

Reset / Forgot Password

A mail will be sent to your email id for reset password.

App creator-Instappy

Renew your Password

App creator-Instappy

Email Verification

A mail will be sent to your email id for verification.

पल्प स्ट्रेटेजी ने लॉन्च किया मोबाइल ऐप

इंसटैपी की एक खास विशेषता है इंसटैपी विजार्ड। उपयोगकर्ता रियल टाइम में डिवाइस पर अपने ऐप देख सकते हैं और टेस्ट कर सकते हैं, जब वे इसे बना रहे हों। विजार्ड उपयोगकर्ताओं को उनके व्यवसायों के लिए मूल एप्लीकेशनों के निर्माण के वक्त विश्वस्त विकल्प अपनाने की अनुमति देता है।

जानें 'किसान सारथी' डिजिटल प्लेटफॉर्म के बारे में

हाल ही में डिजिटल प्लेटफॉर्म 'किसान सारथी' लॉन्च किया गया है जो कि किसानों को उनकी भाषा में सही समय पर सही जानकारी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करेगा. आइये इसके बारे में विस्तार से अध्ययन करते हैं.

Kisan Sarathi Digital Platform

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) ने अपना 93वां स्थापना दिवस 16 जुलाई, 2021 को मनाया और इस अवसर पर किसान सारथी प्लेटफार्म का शुभारंभ किया. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने इस अवसर पर विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कारों की घोषणा की.

नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि "कृषि और संबद्ध विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में परिषद के वैज्ञानिकों के अथक प्रयास और सराहनीय कार्य देश के लिए एक वास्तविक सम्मान हैं. उन्होंने कोविड-19 के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान भी आवश्यक खाद्य फसलों के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए कृषि क्षेत्र की क्षमता पर जोर दिया".

किसान सारथी प्लेटफार्म और इसके फायदे के बारे में जानते हैं

डिजिटल प्लेटफॉर्म 'किसान सारथी' से किसान सीधे कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) के संबंधित वैज्ञानिकों से बातचीत कर सकते हैं और कृषि और संबद्ध क्षेत्रों पर व्यक्तिगत सलाह प्राप्त कर सकते हैं.

इसे केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री और केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री द्वारा संयुक्त रूप से लॉन्च किया गया था.

यह किसानों को उनकी अपनी इच्छित भाषा में 'सही समय पर सही जानकारी' प्राप्त करने की सुविधा के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है. किसान इसका उपयोग करके खेती के नए तरीके भी सीख सकते हैं.

कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) के बारे में

पहला KVK 1974 में पुडुचेरी में स्थापित किया गया था.

KVK योजना भारत सरकार द्वारा 100% वित्तपोषित है और KVK कृषि विश्वविद्यालयों, ICAR संस्थानों, संबंधित सरकारी विभागों और कृषि में काम करने वाले गैर सरकारी संगठनों (NGOs) को स्वीकृत हैं.

KVK , राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणाली (NARS) का एक अभिन्न अंग है.

इसका उद्देश्य प्रौद्योगिकी मूल्यांकन, शोध और प्रदर्शनों के माध्यम से कृषि और संबंधित उद्यमों में स्थान-विशिष्ट प्रौद्योगिकी मॉड्यूल का मूल्यांकन करना है.

KVK गुणवत्तापूर्ण तकनीकी उत्पादों (बीज, रोपण सामग्री, जैव-एजेंट, पशुधन) का भी उत्पादन करते हैं और इसे किसानों को उपलब्ध कराते हैं.

KVK प्रयोगशालाओं और खेत के बीच एक ब्रिज का काम करते हैं. सरकार के अनुसार, 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए ये प्लेटफार्म महत्वपूर्ण हैं.

अंत में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) के बारे में जानते हैं

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग (DARE), कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक स्वायत्त संगठन है.

यह पहले इंपीरियल काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च के नाम से जाना जाता था.

यह 16 जुलाई 1929 को कृषि पर रॉयल कमीशन की रिपोर्ट के अनुसरण में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के तहत एक पंजीकृत सोसायटी के रूप में स्थापित किया गया था.

ICAR का मुख्यालय नई दिल्ली में है.

यह परिषद पूरे देश में बागवानी, मत्स्य पालन और पशु विज्ञान सहित कृषि में अनुसंधान और शिक्षा के समन्वय, मार्गदर्शन और प्रबंधन के लिए शीर्ष निकाय है.

ICAR ने अपने अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास के माध्यम से भारत में हरित क्रांति और उसके बाद के कृषि के विकास में अग्रणी भूमिका निभाई है, जिसने देश को खाद्यान्न के उत्पादन में वृद्धि करने में सक्षम बनाया है.

मोबाइल से बुक हो सकता है जनरल ट्रेन टिकट और प्लेटफॉर्म टिकट, रेलवे का UTS एप करना होगा डाउनलोड

टिकट खरीदने के लिए लगी लाइन (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

यूटिलिटी डेस्क. यात्रियों ट्रेन टिकट की लाइन में लगने से बचाने और कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा देने के लिए रेलवे ने हाल ही में एक नई मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च की है। जिसकी मदद से मोबाइल के जरिए ही जनरल (अनारक्षित श्रेणी) टिकट और प्लेटफॉर्म टिकट खरीदा जा सकता है। रेलवे की इस एप्लिकेशन का नाम Unreserved Ticketing System है, जिसे शॉर्ट में UTS एप नाम दिया गया है। ये एप एंड्रॉइड और आईफोन दोनों तरह के मोबाइल यूजर्स के लिए उपलब्ध है।

तीन दिन पहले से खरीद सकते हैं टिकट

इस एप की मदद से यात्री 200 किलोमीटर या उससे Platform ऐप अधिक की दूरी के सफर के लिए यात्रा तारीख के तीन दिन पहले से अनारक्षित श्रेणी का टिकट खरीद सकते हैं। वहीं यात्रा वाले दिन वो कितनी भी दूरी का अनारक्षित (जनरल) टिकट इस एप की मदद से खरीद सकते हैं।

दो तरह के टिकट हो सकते हैं बुक

इस एप की मदद से यात्री दो तरह से प्लेटफॉर्म या अनारक्षित टिकट खरीद सकते हैं। पहला है पेपरलेस टिकट और दूसरा है पेपर टिकट।

पेपरलेस टिकट

इस मोबाइल एप की मदद से यात्री पेपरलेस (बिना पेपर वाली) तरीके से यात्रा टिकट, सीजन टिकट और प्लेटफॉर्म टिकट बुक कर सकता है। बदले में मोबाइल एप के अंदर ही उसे डिजिटल फॉर्मेट में टिकट मिल जाएगी। ऐसी स्थिति में वो प्रिंटेड टिकट के बिना ही यात्रा कर सकता है। वहीं टिकट चैकिंग स्टाफ की ओर से टिकट मांगने पर वो उस एप का \'शो टिकट\' ऑप्शन का इस्तेमाल कर सकता है।

  • पेपरलेस टिकट बुक करने के लिए यात्री के पास GPS सुविधा वाला स्मार्ट फोन होना जरूरी है और बुक करने के दौरान उसकी लोकेशन सर्विस ऑन होना चाहिए।
  • पेपरलेस टिकट को कैंसल नहीं करवाया सकता। पेपरलेस टिकट बुक करने के एक घंटे के भीतर यात्रा शुरू होनी चाहिए।
  • प्लेटफॉर्म टिकट को भी इस मोबाइल एप्लिकेशन के जरिए बुक किया जा सकता है। यदि यात्री मोबाइल पर टिकट नहीं दिखा पाता है तो ऐसी स्थिति में उसे बिना टिकट यात्री ही माना जाएगा।

पेपर टिकट

इस मोबाइल एप की मदद से बुकिंग के दौरान यात्री पेपर टिकट भी बुक कर सकते हैं। इस तरह की बुकिंग के लिए उन्हें एप में \'बुक एंड प्रिंट (पेपर)\' ऑप्शन को चुनना होगा। इस तरीके से टिकट बुक करने के बाद उन्हें अपने मोबाइल पर टिकट की बाकी जानकारियों के साथ एक बुकिंग ID मिलती है। इसके अलावा बुकिंग ID को मोबाइल SMS के जरिए भी भेजा जाता है।

  • मोबाइल से पेपर टिकट बुक करने के बाद यात्री को रेलवे स्टेशन पहुंचकर वहां लगी ATVM (ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीन) से टिकट का प्रिंट निकालना होगा। इसके लिए उसे अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और बुकिंग ID मशीन में डालना होगी।
  • प्रिंटेड टिकट ऑप्शन के जरिए टिकट बुक करने पर यात्री के पास उसका प्रिंट होना जरूरी है। क्योंकि चैकिंग के दौरान प्रिंट नहीं मिलने पर उसकी यात्रा को बिना टिकट माना जाएगा। ATVM मशीन से टिकट का प्रिंट लेने के बाद एक घंटे के अंदर यात्री का सफर शुरू हो जाना चाहिए।
  • पेपर टिकट को कैंसल भी करवाया जा सकता है। इसके लिए यात्री को प्रिंट लेने के बाद काउंटर पर जाना होगा, या फिर वो प्रिंट लेने से पहले एप के जरिए भी ऐसा कर सकता है। दोनों ही मामलों में कैंसलेशन फीस लगेगी।

कैसे होगा एप का इस्तेमाल

  • एप को डाउनलोड करने के बाद यूजर को अपने मोबाइल नंबर की मदद Platform ऐप से इस पर खुद को रजिस्टर्ड करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यूजर से उसका मोबाइल नंबर, नाम, जेंडर, जन्मतिथि पूछने के बाद पासवर्ड बनाने के लिए कहा जाएगा। फिर OTP के जरिए ये प्रोसेस पूरी होगी।
  • रजिस्ट्रेशन होने के बाद स्क्रीन पर एक विंडो आएगी, जिसमें बुक टिकट, कैंसल टिकट, बुकिंग हिस्ट्री, आर-वॉलेट, प्रोफाइल, शो बुक्ड टिकट, हेल्प और लॉगआउट के ऑप्शन दिखाई देंगे।
  • टिकट बुक करने के लिए यूजर को \'बुक टिकट\' ऑप्शन चुनना होगा। इस पर क्लिक करने के बाद उसके सामने दो नए ऑप्शन आ जाएंगे। जिनमें से पहला \'बुक एंड ट्रैवल (पेपरलेस)\' और दूसरा \'बुक एंड प्रिंट (पेपर)\' ऑप्शन होगा। अगर यूजर पेपरलेस ऑप्शन चुनता है तो ऐसी स्थिति में उसकी लोकेशन सर्विस ऑन होना चाहिए।
  • मनचाहे ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद यूजर से कहां से कहां तक यात्रा करना है, ये जानकारी भरने के लिए कहा जाएगा। फिर ट्रेन से संबंधित अन्य जानकारी भरने के बाद पेमेंट का ऑप्शन आएगा।

कई वॉलेट के जरिए कर सकते हैं पेमेंट

इस एप में दो तरह से पेमेंट किया जा सकता है। जिसमें से पहला है आर-वॉलेट जो इस एप के लिए बनाया गया वॉलेट है, इसके इस्तेमाल के लिए यूजर को पहले इसे रिचार्ज करना होगा। इसके अलावा यूजर अन्य कई वॉलेट की मदद से नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और UPI के जरिए भी पेमेंट कर सकता है।

रेटिंग: 4.92
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 341
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *