बाइनरी ऑप्शंस

विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण

विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण
what is option trading

EazeeTraders.com

कॉल विकल्प (Call Option) वित्तीय अनुबंध हैं जो स्टॉक खरीदार एक निश्चित समय अवधि के भीतर खरीदने के लिए विकल्प खरीदार को अधिकार देते हैं, लेकिन दायित्व नहीं। स्टॉक को अंतर्निहित परिसंपत्ति कहा जाता है। जब अंतर्निहित संपत्ति की कीमत बढ़ जाती है तो कॉल खरीदार को लाभ होता है ।

एक कॉल विकल्प (Call Option) को एक पुट के साथ जोड़ा जा सकता है, जो धारक को समाप्ति पर या उससे पहले एक निर्दिष्ट मूल्य पर अंतर्निहित परिसंपत्ति को बेचने का अधिकार देता है।

महत्वपूर्ण बिंदु (Key Points) :

  • कॉल एक विकल्प (Call Option) अनुबंध है जो मालिक को एक निर्दिष्ट समय के भीतर एक निर्दिष्ट मूल्य पर एक अंतर्निहित सुरक्षा की एक निर्दिष्ट राशि खरीदने के लिए अधिकार देता है, लेकिन दायित्व नहीं, ।
  • निर्दिष्ट मूल्य को स्ट्राइक मूल्य के रूप में जाना जाता है और जब इसकी समाप्ति या परिपक्वता का समय होता है तो निर्दिष्ट समय के दौरान इसकी बिक्री की जाती है।

ऑप्शन चैन के अधिक जानकरी के लिए कृपया यहाँ क्लिक करे – What is Option Chain?

कॉल विकल्प की मूल बातें : (Call Option Explained)

कॉल विकल्प (Call Option) में , कॉल विकल्प धारक को एक विशिष्ट मूल्य पर कंपनी के शेयर खरीदने का अधिकार देते हैं, जिसे स्ट्राइक मूल्य के रूप में जाना जाता है। और इसकी जो समाप्ति तिथि है उसको समाप्ति तिथि के रूप में जाना जाता है।

उदाहरण के लिए, एक सिंगल कॉल ऑप्शन (Call Option) कॉन्ट्रैक्ट खरीददार (Call Option Buyer) को तीन महीने में समाप्ति की तारीख तक शेयर खरीदने का अधिकार देता है। व्यापारी ऐसी बहोत सारे कॉन्ट्रैक्ट और तिथियां चुन सकते है। मान लो खरीददार ने विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण मारुती सुजुकी के १०० शेयर खरीद लिए ।जैसे ही मारुती सुजुकी का स्टॉक का मूल्य बढ़ता है, विकल्प अनुबंध की कीमत भी बढ़ती जाती है।कॉल ऑप्शन खरीदार समाप्ति तिथि तक अनुबंध को रख सकता है, वो किसी भी समय स्टॉक के १०० शेयरों की डिलीवरी भी ले सकते हैं या उस समय अनुबंध के बाजार मूल्य पर जो भी भाव चल रहा है उस भाव पर समाप्ति तिथि से पहले विकल्प अनुबंध बेच सकते हैं।

कॉल विकल्प (Call Option) के बाजार मूल्य को प्रीमियम कहा जाता है। यह उन अधिकारों के लिए भुगतान की गई कीमत है जो कॉल विकल्प प्रदान करता है। यदि समाप्ति पर अंतर्निहित संपत्ति स्ट्राइक मूल्य से कम है, तो कॉल खरीदार भुगतान किए गए प्रीमियम को खो देता है। यह खरीददार (Call Option Buyer) का अधिकतम नुकसान होता है।

उदाहरण के लिए, यदि विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण मारुती सुजुकी समाप्ति पर ₹११० पर कारोबार कर रहा है, खरीददार ने कॉल ऑप्शन स्ट्राइक मूल्य ₹ १०० पर ख़रीदा है,और विकल्प खरीदार की लागत ₹ २ है, और उसका मुनाफा ₹ ११० है (₹ ११० – ₹ २) = ₹ ८ । यदि खरीदार ने एक अनुबंध (Contract) खरीदा है जो ₹ ८०० (₹ ८ x १०० शेयर) के बराबर है, या अगर उन्होंने दो अनुबंध ख़रीदे है तो उनका मुनाफा ₹ १६००(₹ ८ x २०० ) इतना हो जायेगा ।यदि एक्सपायरी पर मारुती सुजुकी ₹ १०० से नीचे है, तो विकल्प खरीदार प्रत्येक खरीदे गए अनुबंध के लिए ₹ १०० (₹ २ x १०० शेयर) खो देता है।

कॉल विकल्प (Call Option) का उपयोग अक्सर दो प्राथमिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। आमदनी कमाने के लिए और सट्टेबाजी के लिए।
खरीदार को को ध्यान में रखना होगा की कॉल ऑप्शंस बेचने से पहले ये सुनिश्चित करें कि किसी व्यापार पर विचार करते समय एक विकल्प अनुबंध के मूल्य और लाभप्रदता को पूरी तरह से समझे, अन्यथा वो स्टॉक रैली में बहुत अधिक जोखिम ले सकते हैं।

ज़ेरोधा (ZERODHA) में डीमैट अकाउंट कैसे खोले जानने के लिए यहाँ क्लिक करे Zerodha account opening process

आमदनी कमाने के लिए कवर विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण कॉल (covered Call Option for income) :

कुछ निवेशक एक कवर कॉल रणनीति के माध्यम से आमदनी उत्पन्न करने के लिए कॉल विकल्पों का उपयोग करते हैं। एक ही समय पर कॉल विकल्प (Call Option) लिखना, या किसी और को अपना स्टॉक खरीदने का अधिकार देना इस रणनीति का एक हिस्सा है। निवेशक विकल्प प्रीमियम जमा करता है और उम्मीद करता है कि विकल्प बेकार (स्ट्राइक प्राइस के नीचे) समाप्त हो जाएगा। यह रणनीति निवेशक के लिए अतिरिक्त आमदनी उत्पन्न करती है लेकिन यदि अंतर्निहित स्टॉक मूल्य तेजी से बढ़ता है तो लाभ की क्षमता को सीमित कर सकती है ।

कवर किए गए कॉल काम करते हैं क्योंकि अगर स्टॉक स्ट्राइक प्राइस से ऊपर उठता है, तो विकल्प खरीदार कम स्ट्राइक मूल्य पर स्टॉक खरीदने के अपने अधिकार का प्रयोग करते है । इसका मतलब यह है विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण कि ऑप्शन राइटर स्ट्राइक प्राइस से ऊपर स्टॉक के मूवमेंट पर लाभ नहीं उठाते है। विकल्प में विकल्प लेखक (Option Writer ) का अधिकतम लाभ प्राप्त प्रीमियम ही है।

सट्टे के लिए विकल्प का उपयोग करना – (Using Call option for Speculation)

विकल्प अनुबंध खरीदारों को अपेक्षाकृत कम कीमत के लिए स्टॉक में महत्वपूर्ण एक्सपोजर प्राप्त करने का अवसर देते हैं। अगर स्टॉक बढ़ता है खरीददार महत्वपूर्ण लाभ प्रदान कर सकते हैं । लेकिन वे प्रीमियम के १००% नुकसान में भी जा सकते है अगर कॉल विकल्प स्ट्राइक मूल्य से ऊपर जाने में असफल रहा । कॉल विकल्प खरीदने (Call option buy) का लाभ यह है कि विकल्प के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम पर जोखिम हमेशा सिमित रहता है।प्रीमियम से ज्यादा नुकसान नहीं होता है।

निवेशक एक कॉल स्प्रेड बनाते हुए एक साथ अलग-अलग कॉल विकल्प खरीद और बेच सकते हैं जिसे कॉल ऑप्शन सेलर (Call Option Seller) कहते है । ये रणनीति से संभावित लाभ और हानि दोनों को प्रभंदित करते है , लेकिन कुछ मामलों में एकल कॉल विकल्प की तुलना में अधिक लागत प्रभावी हैं क्योंकि एक विकल्प की बिक्री से एकत्र किए गए प्रीमियम दूसरे के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम को बदल देते हैं।

कॉल विकल्प का वास्तविक उदाहरण (Call Option Example)

मान लीजिए कि स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का शेयर प्रति शेयर ₹ १०८ पर कारोबार कर रहे हैं। आप स्टॉक के १०० शेयर के मालिक हैं और स्टॉक के लाभांश से ऊपर और उससे अधिक आमदनी उत्पन्न करना चाहते हैं। आप यह भी मानते हैं कि अगले महीने में शेयर ₹११५ प्रति शेयर से ऊपर जाने की संभावना नहीं है।

आप अगले महीने के कॉल विकल्पों पर एक नज़र डालते हैं और देखते हैं कि प्रति अनुबंध ₹ ०.३७ पर ₹ ११५ कॉल ट्रेडिंग कर रहा है। तो, आप एक कॉल विकल्प बेचते हैं और लगभग चार प्रतिशत वार्षिक आमदनी का प्रतिनिधित्व करते हुए ₹ ३७ प्रीमियम (₹ ०.३७ x १०० शेयर) इकट्ठा करते हैं।

यदि स्टॉक ₹ ११५ से ऊपर ट्रेड करने लगता है , तो विकल्प खरीदार (Call Option Buyer) विकल्प का उपयोग करेगा और आपको खरीददार को प्रति शेयर ₹ ११५ प्रति शेयर के १०० शेयर वितरित करने होंगे। यदि शेयर ₹ ११५ से ऊपर नहीं बढ़ता है, तो आप शेयरों और ₹ ३७ प्रीमियम की आमदनी कमाते हैं।

कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन (Call Options vs Put Options) दोनों के अंतर को जानने के लिए या क्लिक करे – Call & Put Option

जरुरी संपर्क (Links ) इन शेयर मार्किट – NSE & BSE INDIA : IMPORTANT LINKS

विकल्प (Options) ऑप्शन ट्रेडिंग - Options Trading

आपके द्वारा ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने से पहले आप क्या पूर्ण करने की आशा रखते हैं, उसकी समझ होना बेहद जरूरी है. केवल तभी आप ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीति पर ध्यान केंद्रित कर पाएंगे. आइये पहले ऑप्शन की अवधारणा को समझते हैं.

ऑप्शन की अवधारणा को इस उदाहरण से समझा जा सकता है. उदाहरण के लिए, जब आप कुछ संपत्ति विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण खरीदने की योजना बनाते हैं, तो आपने अन्य ऑप्शन का मूल्यांकन करने के दौरान उसे कुछ समय के लिए होल्ड करने के लिए नॉन-रिफंडेबल डिपॉजिट रखा हो सकता है.

यह ऑप्शन के प्रकार का उदाहरण है. उसी प्रकार, शायद आपने सुना हो कि बॉलीवुड किसी उपन्यास पर कोई ऑप्शन खरीद रहा है. किसी उपन्यास को ऑप्शन करने में निर्देशक पैसा रखा निर्दिष्ट दिनांक से पहले उपन्यास पर फिल्म बनाने के अधिकार खरीदता है. मकान और स्क्रिप्ट वाले दोनों मामलों में, किसी ने निश्चित दिनांक से पहले निश्चित मूल्य पर कोई उत्पाद खरीदने के अधिकार के लिए कुछ हैं. स्टॉक ऑप्शन खरीदना भी कुछ ऐसा ही है. ऑप्शन वे अनुबंध हैं जो निश्चित समय के भीतर धारक को निश्चित मूल्य पर निश्चित स्टॉक की तय मात्रा बेचने या खरीदने का अधिकार देते हैं. कोई पुट ऑप्शन धारक को प्रतिभूति बेचने का अधिकार देता है, कोई कॉल ऑप्शन प्रतिभूति खरीदने का अधिकार देता है. हलांकि इस प्रकार के अनुबंध धारक को अधिकार देते हैं, बल्कि निश्चित दिनांक से पहले निश्चित मूल्य पर स्टॉक व्यापार करने की कोई बाध्यता नहीं देते हैं. कई व्यक्तिगत निवेशक को ऑप्शन उपयोगी साधन लगता हैक्योंकि वे इसे निम्न तरह से उपयोग कर सकते हैं:

ए) लेवरेज के प्रकार के रूप में या

बी) बीमा के प्रकार के रूप में.

ऑप्शन में ट्रेड करना आपको शेयर का पूरा मूल्य दिए बिना शेयर के मूल्य से लाभ उठाने देता है. वे आपको पूर्ण रूप से शेयर खरीदने के लिए आवश्यक पैसों की तुलना में बेहद कम पैसों से स्टॉक के शेयर पर सीमित नियंत्रण प्रदान करते हैं. बीमा के रूप में उपयोग किए जाने पर ऑप्शन आपको सीमित समय के लिए खरीदने या बेचने का अधिकार प्रदान करके किसी निश्चित प्रतिभूति के मूल्यों में उतार चढ़ाव से आपकी सुरक्षा करते हैं. ऑप्शन स्वाभविक रूप से जोखिमभरा निवेश साधन है केवल अनुभवी एवं ज्ञानी निवेशकों के लिए उचित है जो कि बाजार स्थिति को करीब से देखने के लिए तैयार है और अनुमान लगाकर संभावित नुकसान उठाने के लिए वित्तीय रूप से तैयार हैं.

अलग-अलग प्रकार ऑप्शन क्या है? ऑप्शन को लाभ कमाने / हानि घटाने के लिए रणनीतिक उपाय के रूप में कैसे उपयोग किया जा सकता है?

अः ऑप्शन को निम्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, ऑप्शन के दो प्रकार हैं, कॉल और पुट. कॉल ऑप्शन धारक को समापन अवधि से पहले किसी भी समय स्ट्राइक मूल्य पर अंतनिर्हित स्टॉक खरीदने का अधिकार देता है. समान्य तौर पर, अंतनिर्हित साधनों का मूल्य बढ़ने पर कॉल ऑप्शन का मूल्य भी बढ़ता है..

इसके विपरीत पुट ऑप्शन समापन दिनांक को या उसके पहले स्ट्राइक मूल्य पर धारक को अंतर्निहित शेयर बेचने का अधिकार प्रदान करते हैं. अंतर्निहित साधनों का मूल्य कम होने पर पुट ऑप्शन का मूल्य बढ़ता है.

पुट ऑप्शन वह है जिसमें कोई व्यक्ति बाद में होने वाली मूल्य गिरावट के लिए कोई स्टॉक सुनिश्चित कर सकता है. यदि आपके स्टॉक का मूल्य कम होता है, तो आप अपना पुट ऑप्शन लेकर इसे पूर्व में निर्धारित मूल्य स्तर पर बेच सकते हैं.यदि स्टॉक मूल्य ऊपर जाता है, तो आपको बस केवल चुकायी गई प्रीमियम राशि की हानि होती है. ध्यान रखें कि समाचार पत्रों और ऑनलाइन उदाहरणों में आप कॉल को सी के रूप में और पुट को पी के रूप में संक्षिप्त किया

नीचे दिए उदाहरणों में पुट ऑप्शन का स्पष्ट रूप से वर्णन किया गया है: केस 1: राजेश ने मई इंफ़ोसिस टेक्नोलॉजिस मई 3000 पुट का 1 लोट खरीदता है और 250 का प्रीमियम देता है,

यह अनुबंध राजेश को वर्तमान दिनांक से मई के अंत तक 3000 रुपए के 100 शेयर खरीदने देता है. इसका लाभ उठाने के लिए, राजेश को बस 25000 रुपए का प्रीमियम देना है ( 250 रुपए एक शेयर के लिए कुल 100 शेयर). पुट के खरीदार ने बेचने का अधिकार खरीद लिया है. पुट के स्वामी के पास बेचने का अधिकार हैं.

केस 2:यदि आप सोचते हैं कि कोई विशेष स्टॉक जैसे रे टक्नोलॉजिस” का फरवरी के महीने में मूल्य अधिक है, और भविष्य में मूल्यों में सुधार हो सकता है. हालांकि आप मूल्य बढ़ने के मामले में कोई खतरा नहीं उठाना चाहते हैं. तो आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प स्टॉक पर पुट ऑप्शन लेना रहेगा. मान लीजिए स्टॉक के लिए भाव इसके अंतर्गत हैं:

1050 रुपए 10 पर मई पुट 1070 रुपए 30 पर मई पुट

इसलिए आपने स्ट्राइक मूल्य 1070 और पुट मूल्य 30 रुपए पर 1000 रे टेक्नोलॉजिस” पुट खरीदे

5 मिनट में जानिये कमोडिटी मार्केट में कैसे करें ऑप्शन ट्रेडिंग

ऑप्शन ट्रेडिंग है क्या? क्या हैं इसके फायदें? कौन कर सकता है ऑप्शन ट्रेडिंग? क्या हैं इसकी जरूरी शर्तें? इन सवालों के सभी जबाव 5 मिनट में .

5 मिनट में जानिये कमोडिटी मार्केट में कैसे करें ऑप्शन ट्रेडिंग

इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है. वायदा कारोबार में आप 30 हजार के भाव पर गोल्ड की एक लॉट खरीदते हैं. लेकिन सोने का भाव 1000 रुपये टूट जाता है और 29 हजार तक आ जाता है तो एक लॉट पर आपको एक लाख रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है. वहीं, ऑप्शन ट्रेडिंग में अगर आपने कॉल ऑप्शन खरीदा है तो 50 रुपये प्रति दस ग्राम प्रीमियम चुकाकर यह नुकसान घटकर सिर्फ 5000 रुपये रह जाता है.

फ्यूचर ट्रेडिंग से कैसे अलग है ऑप्शन ट्रेडिंग
फ्यूचर बाज़ार में हेजिंग का टूल नहीं है यानी इसमें सौदे को ओपन (खुला) छोड़ते हैं या फिर स्टॉपलॉस लगाते हैं . अगर स्टॉपलॉस लगाने पर उस स्तर पर सौदा खुद ही कट जाता है लेकिन नुकसान जरूर होता है. स्टॉपलॉस न लगाया तो नुकसान ज्यादा होता है. जबकि पुट ऑप्शन में खरीदे हुए सौदे को हेज कर सकते हैं. इसी तरह बिके हुए सौदे को कॉल ऑप्शन के जरिये नुकसान की सीमा को बांध सकते हैं.

क्या है कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन
कॉल ऑप्शन तब इस्तेमाल होता है जब आपको लगता है कि किसी कमोडिटी में आप तेजी पर दांव लगाते हैं. काल ऑप्शन में आपको प्रीमियम भरना होता वहीं आपका अधिकतम नुकसान होता है. दूसरी ओर पुट ऑप्शन का इस्तेमाल तब होता है जब आपको लगता है कि बाज़ार में आगे मंदी के आसार है.

कमोडिटी फ्यूचर्स मार्केट में ऑप्शंस कैसे चलेगा?
एंजेल कमोडिटी के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता का कहना है कि जो ऑप्शंस एक्सपायरी पर आउट ऑफ द मनी रह जाएंगे वे लॉस में कटेंगे. जिन ऑप्शन होल्डर्स के ऑप्शंस इन द मनी रहेंगे उनको अपनी पोजिशन प्रॉफिट में काटने या फिर उनको फ्यूचर्स पोजिशन में कनवर्ट करने की सहूलियत होगी.

सेबी ने यूरोपियन स्टाइल के ऑप्शंस लॉन्च को मंजूरी दी है
इक्विटी मार्केट के उलट कमोडिटी मार्केट में ऑप्शंस एक्सपायरी पर फ्यूचर्स प्राइस पर सेटल होंगे और ऑप्शन होल्डर को अपनी पोजिशन फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स में कनवर्ट करने का ऑप्शन होगा. इक्विटी मार्केट में एक्सपायरी पर ऑप्शन का सेटलमेंट स्टॉक या इंडेक्स के कैश यानी स्पॉट मार्केट रेट पर होता है. इक्विटी मार्केट में सेबी कैश मार्केट को रेगुलेट करता है जबकि एग्री कमोडिटी में सेबी कैश नहीं सिर्फ फ्यूचर्स को रेगुलेट करता है. यहां का कैश वाला कमोडिटी मार्केट राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है.

ट्रेडिंग अकाउंट होना है जरूरी
कमोडिटी मार्केट में ऑप्शन ट्रेडिंग शुरू करने के लिए सबसे पहले आपके पास ट्रेडिंग अकाउंट होना जरूरी है. अगर आपका पहले से फ्यूचर बाजार में खाता है तो अपने ब्रोकर को ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए सहमति पत्र देना होगा. इस अकाउंट के जरिये ही आप कमोडिटी एक्सचेंज में फ्यूचर या ऑप्शन में किसी सौदे की ख़रीद या बिक्री कर सकते हैं. अगर आप नया खाता खुलवा रहे हैं तो फ्यूचर की तरह ऑप्शन में कारोबार के लिए अलग से फार्म भरना पड़ेगा.

यह ट्रेडिंग खुलवाते समय जिस ब्रोकर के यहां ट्रेडिंग अकाउंट खोल रहे है वह मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) और नेशनल डेरेवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीईक्स) का सदस्य जरूर हो. साथ ही बाज़ार में इस ब्रोकर की ठीक-ठीक पहचान हो. इसके लिए आप इन दोनों एक्सचेंज की बेवसाइट पर जाकर इन ब्रोकर्स के बारे जानकारी जुटा सकते हैं.

ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए ये हैं जरूरी कागजात
ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए आपके पास पैन कार्ड, एड्रेस प्रूफ और बैंक खाता होना जरूरी है. जब आप किसी ब्रोकर के यहां ट्रेडिंग अकाउंट ओपन कराते हैं तो यह ब्रोकर आपको एक अकउंट की आईडी मुहैया कराता. इस आईडी के जरिये आप खुद भी ट्रेड कर सकते हैं. इसके लिए आपके मोबाइल, पीसी, टेबलेट में इंटरनेट की सुविधा होनी जरूरी है. इस अकाउंट के जरिये ब्रोकर को निश्चित शुल्क चुकाना होता है. अगर आप खुद से सौदे नहीं करना चाहते तो आप अपने ब्रोकर को फोन के जरिये सौदे की खरीद या बिक्री कर सकते हैं.

ऑप्शन ट्रेडिंग के 5 बड़े फायदे

1-वायदा के मुकाबले कम रिस्क, रिटर्न ज्यादा

2- प्रीमियम पर टैक्स लगेगा इसलिए वायदा के मुकाबले टैक्स कम

3-हेजिंग का टूल होने से निवेशकों की भागीदारी बढ़ेगी

4-कमोडिटी में छोटे निवेशकों की भागीदारी बढ़ेगी, कमोडिटी बाज़ार को बूस्टर मिलेगा

OPTION TRADING

what is option trading

आज हम आपको बात करे गे ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में |

ऑप्शन ट्रेडिंग एक ऐसा ट्रेडिंग है जो आपको 100% आपको मुनाफा करता है हा में जुठ नहीं बोलता हु यकींन मानिए जो आप लोग इसमें ट्रेडिंग करे गे तो आपको मुनाफा ज्यादा हो सकता हे परन्तु जो आपलोग को इसमें कोई भी जोखिम नहीं है और इसमें कोई जोखिम के चान्स बहुत ही कम रहते है | यानि कोई भी कंपनी में ट्रेडिंग द्वारा इसमें बहुत से विकल्प दिए जाते है | इसी लिए कहवात के अनुसार जहा सारे विकल्प हो तो आपका पैसे डूबेंगे नहीं बाद आपको जानकारी जरुरी है |

सुरक्षा खरीदने के अधिकार को ‘कॉल’ के रूप में जाना जाता है, जबकि बेचने के अधिकार को ‘पुट’ कहा जाता है।और किसी भी ऑप्शन द्वारा सुरक्षा के द्वारा भी मिलता है ऑप्शन ट्रेडिंग से आप इन्वेस्ट के दौरान आपकी ट्रेडिंग जल्दसे ही बढ़ ने लगती है |

हालांकि यह स्टॉक ट्रेडिंग की तुलना में थोड़ा अधिक जटिल है, यदि सुरक्षा की कीमत बढ़ जाती है, तो विकल्प आपको अपेक्षाकृत बड़ा मुनाफा कमाने में मदद कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपको विकल्प अनुबंध में सुरक्षा के लिए पूरी कीमत नहीं चुकानी पड़ती है। उसी तरह, विकल्प ट्रेडिंग आपके नुकसान को सीमित कर सकती है यदि सुरक्षा की कीमत नीचे जाती है, जिसे हेजिंग के रूप में जाना जाता है।

खरीदार के पास बहुत सरे विकल्प होते हे पर वो विकल्प को बेच नहीं सकता है | परन्तु खरीदार अग्रिम भुक्तने बदले में सहमत तिथि या बनके पहले विकल्प को चुनता है | तो वे अपनी तो उसको सहमत सम्पति को बेचना चाहिए |

विकल्प अनुबंध में प्रवेश करते समय दस्तावेजों का कोई भौतिक आदान-प्रदान नहीं होता है। लेन-देन केवल स्टॉक एक्सचेंज में दर्ज किए जाते हैं जिसके माध्यम से उन्हें रूट किया जाता है। इसी को ऑप्शन ट्रेडिंग कहते है ||

जब आप डेरिवेटिव सेगमेंट में ट्रेडिंग कर रहे होते हैं, तो आपके सामने कई ऐसे शब्द आएंगे जो विदेशी लग सकते हैं। यहां कुछ विकल्प-संबंधित शब्दजाल हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए।|

benefit of option trading

विकल्प ट्रेडिंग निश्चित रूप से उम्र का हो गया है, कम से कम भारत में इक्विटी बाजारों में। विकल्प न केवल तरल होते हैं बल्कि वे दैनिक मात्रा के मामले में नकद बाजार और वायदा बाजार से कई गुना बड़े होते हैं। यहां हम ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे और ऑप्शन खरीदारों और ऑप्शन सेलर्स के लिए ऑप्शन ट्रेडिंग के लाभों को देखते हैं। यहां विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण विकल्प ट्रेडिंग के लाभों की त्वरित समीक्षा की गई है।|

विकल्प ट्रेडिंग जोखिम की हेजिंग की अनुमति देता है। उदाहरण के लिए, यदि आप किसी स्टॉक पर लंबे समय से हैं और आपने कम पुट विकल्प ट्रेडिंग उदाहरण विकल्प खरीदा है, तो आपका जोखिम सीमित है। उदाहरण के लिए, यदि आप 810 रुपये के स्टॉक में लंबे समय से हैं और आप 5 रुपये के प्रीमियम पर 800 रुपये का पुट ऑप्शन खरीदते हैं, तो आपका अधिकतम नुकसान 15 रुपये है। यह विकल्पों की शक्ति है क्योंकि कीमत कितनी भी कम हो, इससे आपका नुकसान होता है।

इसी लिए आप जब जियादा इन्वेस्ट करोगे तो आपका स्टॉक लम्बे समय तक आपको मुनाफा मिलता रहता है इसे आपको ज्यादा नुकसान नहीं होगा इसी लिए आप कम इन्वेस्ट न करे इसके बाद जोभी नुकसान होगा वो बहुत मेहगा पड़ेगा इसी लिए आप 250 रुपये के शेयर पे आप खाली 10 रुपये के प्रीमियम पे 240 का पूत ऑप्शन खरीद ते है तो आपको 30 रुपये का होगा इसी लिए प्रीमियम ज्यादा कर के आपको मुनाफा बहुत होगा |

विकल्प आपको स्टॉक रखने की लागत को कम करने में मदद करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास स्टॉक है और कीमत अभी नहीं बढ़ रही है तो आप उच्च कॉल विकल्प बेच सकते हैं और प्रीमियम कमा सकते हैं और उस संपत्ति को रखने की अपनी लागत को कम कर सकते हैं।

विकल्प कारोबार में शामिल जोखिम

मोटे तौर पर, विकल्पों में व्यापार करने के लिए पांच जोखिम हैं और ये सामान्य हैं, भले ही आप विकल्पों के खरीदार या विक्रेता हों।

संभावित नुकसान बहुत बड़ा हो सकता है, खासकर जब नग्न विकल्प बेचे जाते हैं। इसलिए सावधानी जरूरी है। इसके अलावा, भले ही आप विकल्प खरीद रहे हों और कई मौकों पर आपके विकल्पों की समय सीमा समाप्त हो जाती है, यह आपकी ट्रेडिंग क्षमता को खराब कर सकता है।

विकल्पों बेचे जाते है इससे कोई सावधानी जरुरी है इसी लिए आपको खरीदी पे आपको समय की सिमा की समाप्ति होनेसे ट्रेडिंग के बराबर दोबारा वही मिस्टेक न हो इसे आपको कोई जोखिम भी रहता नहीं है इसे ऑप्शन ट्रेडिंग कहते है |

रेटिंग: 4.71
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 435
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *