सर्वश्रेष्ठ 60 सेकंड की ट्रेडिंग रणनीतियाँ

निवेश की पेशकश

निवेश की पेशकश
5 साल की अवधि पूरी होने पर टैक्स छूट की सुविधा भी मिलती है। बता दे की इस स्कीम में अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं होती। बात ब्याज की करें तो स्कीम में 7 दिनों से एक साल होने पर 5.50 फीसदी ब्याज मिलता है। 1-2 साल की एफडी पर भी 5.50 फीसदी का ब्याज दर मिलता है। वहीं तीन होने पर तक की इस निवेश की पेशकश एफडी स्कीम में 5.50 फीसदी फीसदी से अधिक का ब्याज मिलता है।

Post Office Scheme: कमाल की है पोस्ट ऑफिस की यह स्कीम, मिलता है बैंक से ज्यादा फायदा, 1000 रुपये से शुरू करें निवेश

Post Office Scheme: पोस्ट ऑफिस में निवेश करना बचत और फायदे वाला ऑप्शन होता है। पोस्ट ऑफिस द्वारा कई स्कीम की सुविधा दी जाती है, जिसमें तगड़ा फायदा होता है। ऐसी ही योजनाओं में से एक “पोस्ट ऑफिस फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम” है। यह सुरक्षित और फायदेमंद स्कीम में से एक है। इस स्कीम से न निवेशकों को शानदार मुनाफा होता है, जिसकी गारंटी खुद सरकार देती है। इस एफडी स्कीम में ढेरों सुविधाएं मिलती है। इसके लिए अप्लाइ करना भी बेहद आसान होता है।

यदि आप पोस्ट ऑफिस में निवेश करने की योजना बना रहे हैं, तो आपके लिए “पोस्ट ऑफिस एफडी स्कीम” अच्छा ऑप्शन बन सकती है। आप इस स्कीम में ब्याज दर काफी अच्छा-खासा मिलता है। निवेश मात्र 1000 रुपये के निवेश से शुरुआत कर सकते हैं। ऑनलाइन, चेक और कैश के जरिए आप निवेश कर सकता है। निवेशक जॉइन्ट अकाउंट भी बनवा सकते हैं। इतना ही निवेशक अपनी मर्जी के 1 से अधिक एफडी भी करवाने के पात्र होते हैं। इस स्कीम के तहत पोस्ट ऑफिस से एफडी को दूसरे पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर करना बेहद आसान होता है।

SBI FD vs पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट स्कीम: निवेश करने से पहले जान लें कहां पैसा लगाना ज्यादा फायदेमंद, यहां समझें पूरा गणित

देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने हाल ही में फिक्स्ड डिपॉजिट यानी FD की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। ऐसे में अगर आप SBI में FD कराने का प्लान बना रहे हैं तो आपको इससे पहले पोस्ट ऑफिस के नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट की ब्याज दरों के बारे में जरूर जानना चाहिए। हम आपको SBI फिक्स्ड डिपॉजिट की ब्याज दर और टाइम डिपॉजिट अकाउंट के बारे में बता रहे हैं। ताकि आप अपने हिसाब से सही जगह निवेश कर सकें।

नेशनल सेविंग्स टाइम डिपॉजिट अकाउंट में मिल रहा 6.7% तक का ब्याज

  • यह एक तरह की FD ही है। इसमें एक तय अवधि के लिए निवेश करके आप निश्चित रिटर्न पा सकते हैं।
  • टाइम डिपॉजिट अकाउंट 1 से 5 साल तक की अवधि के लिए 5.5 से 6.7% तक ब्याज दर की पेशकश करता।
  • इसमें 1000 रुपए का मिनिमम निवेश करना होता है। वहीं अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। इस स्कीम से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

NPS calculator: हर महीने पाना चाहते हैं 2.23 लाख रुपये का पेंशन तो ऐसे करें निवेश

NPS calculator: हर महीने पाना चाहते हैं 2.23 लाख रुपये का पेंशन तो ऐसे करें निवेश

डीएनए हिंदी: राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (NPS) एक सरकार समर्थित निवेश योजना है जो परिपक्वता पर नियमित मासिक पेंशन प्रदान करती है. यह एक ही निवेश में डेट और इक्विटी में निवेश की पेशकश करता है. दोनों के सही अनुपात और व्यवस्थित निकासी योजना के साथ एक खाताधारक परिपक्वता पर 2.23 लाख रुपये तक शुद्ध मासिक पेंशन प्राप्त कर सकता है.

विशेषज्ञ लंबी अवधि के रिटर्न के लिए डेट-इक्विटी को 40:60 के अनुपात या 50:50 के अनुपात में रखने की सलाह देते हैं. इसके साथ एनपीएस ब्याज दर लंबी अवधि में लगभग 10 प्रतिशत प्रति वर्ष की उम्मीद की जा सकती है. इस तरह यदि कोई व्यक्ति एनपीएस खाते में प्रति माह 15,000 रुपये का निवेश करता है, तो 30 साल की उम्र में निवेश करने पर यानी 30 साल बाद वह 60 साल की उम्र के बाद 2.23 लाख रुपये निवेश की पेशकश मासिक पेंशन प्राप्त कर सकता है, यदि वे सिस्टेमैटिक विदड्रॉल प्लान (SWP) में भी निवेश करते हैं.

Atal Pension Yojana: करना चाहते हैं अगर रिटायरमेंट के बाद की लाइफ सिक्योर, तो निवेश करें इस योजना में

अटल पेंशन योजना साल 2015 में शुरू हुई थी. इस योजना के तहत 60 साल की उम्र के बाद पेंशन मिलना शुरू होती है. इसमें आपको कम से कम 1,000 रुपए, 2,000 रुपए, 3,000 रुपए, 4,000 रुपए और मैक्सिमम 5,000 रुपए की मासिक पेंशन मिल सकती है.

Atal Pension Yojana

Atal Pension Yojana: केंद्र सरकार की सोशल सिक्योरिटी स्कीम (Social Security Scheme ) अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) कम समय में काफी लोकप्रिय हो गयी है. और हो भी क्यों ना, सबको अपने रिटायरमेंट के बाद की ज़िन्दगी की चिंता होती है.सब अपना बुढ़ापा सिक्योर करना चाहते हैं. इस योजना में पैसे जमा करने पर 60 साल की उम्र पूरी होने के बाद हर महीने पेंशन मिलती है. इस योजना में निवेश के बाद आपको रिटायरमेंट के बाद के खर्चों की चिंता नहीं रहेगी. अगर आप भी करना चाहते हैं इस योजना में निवेश तो जानिए इस योजना के बारे में सारी डिटेल्स.

क्या है अटल पेंशन योजना?


अटल पेंशन योजना साल 2015 में शुरू हुई थी. शुरुआत में यह योजना असंगठित क्षेत्रों (Unorganised Sector) में काम करने वाले लोगों के लिए शुरू की गई थी. उसके बाद इस योजना को 18 से 40 वर्ष के हर भारतीय नागरिक के लिए खोल दिया गया. लेकिन अक्टूबर, 2022 के बाद से इस योजना में अब इनकम टैक्स पेयर (Income Tax Payer) एनरोल नहीं कर सकते हैं. इस योजना के तहत 60 साल की उम्र के बाद पेंशन मिलना निवेश की पेशकश शुरू होती है. इसमें आपको कम से कम 1,000 रुपए, 2,000 रुपए, 3,000 रुपए, 4,000 रुपए और मैक्सिमम 5,000 रुपए की मासिक पेंशन मिल सकती है. इस योजना में आपका निवेश बिलकुल सुरक्षित है. इस योजना में रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए आपके पास सेविंग्स अकाउंट,आधार नंबर और एक मोबाइल नंबर होना चाहिए.


इस शानदार योजना में आप जितनी जल्दी निवेश करेंगे आपको निवेश की पेशकश उतना ज़्यादा फायदा मिलेगा.
- कोई व्यक्ति अगर 18 साल की उम्र में इस योजना से जुड़ता है और 60 साल की उम्र के बाद 5000 रुपए महीने पेंशन के रूप में पाना चाहता है, तो उससे सिर्फ 210 रुपए प्रति महीने निवेश की पेशकश जमा करने होंगे.
- इसमें अगर आप 4000 रुपए मासिक पेंशन पाना चाहते हैं तो हर महीने 168 रुपए जमा करने होंगे.
- वहीं, आप 3000 रुपए मासिक पेंशन के लिए 126 रुपए मासिक निवेश कर सकते हैं.
- ऐसे ही आप 2000 रुपए मासिक पेंशन के लिए 84 रुपए और 1000 रुपए मासिक पेंशन के लिए 42 रुपए निवेश कर सकते हैं.

इस योजना में मिलेगा टैक्स बेनिफिट


इस योजना की कई खासियतों में से एक है की इसमें निवेश करने वाले लोगों को इनकम टैक्स एक्ट 80C (Income Tax Act 80C) के तहत 1.5 लाख रुपए तक का टैक्स बेनिफिट मिलता हैं. इसमें से टैक्सेबल इनकम को घटा दिया जाता है. इसके अलावा कुछ मामलों में 50,000 रूपए तक का एक्स्ट्रा टैक्स बेनिफिट मिलता है. साथ ही इस योजना में 2 लाख रुपए तक का डिडक्शन मिलता है.


अगर इस योजना के तहत किसी निवेशक की मृत्यु 60 साल से पहले हो जाती है तो फिर उसके पति/पत्नी इस योजना में पैसे जमा करना जारी रख सकते हैं और 60 साल की उम्र के बाद हर महीने पेंशन पा सकते हैं. इसके अलावा एक ऑप्शन ये भी है की निवेशक की मृत्यु के बाद, उनके पति या पत्नी इकट्ठा रकम का दावा कर सकते हैं. अगर निवेशक के पति या पत्नी की भी मौत हो जाये तो एक निवेश की पेशकश इक्कठा रकम उनके नॉमिनी को मिल जाती है.

भारत निवेशकों को नीतिगत स्थिरता, पारदर्शिता प्रदान करता है : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

PC: @nsitharamanoffc (Twitter)

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने निवेशकों को संभावना वाले ऊर्जा संसाधनों में निवेश के लिए आगे आने को कहा है। उन्होंने निवेशकों को आमंत्रित करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि भारत उनके निवेश को ‘संभालने’ के लिए नीतिगत स्थिरता, पारदर्शिता और विचार-विमर्श वाली कामकाज के संचालन की प्रक्रिया की पेशकश करता है।

सीतारमण ने यहां कोयला खानों की वाणिज्यिक नीलामी की शुरुआत के मौके पर कोयले में निवेश की जरूरत पर जोर देते हुए कहा, ‘‘कोयले के गैसीकरण में मदद के लिए हमें और अधिक निवेश की जरूरत है। मैं आप सभी को (वाणिज्यिक खानों के छठे दौर) नीलामी प्रक्रियाओं में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए आमंत्रित करती हूं, जो आज शुरू हुई है।’’

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 116
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *