सर्वश्रेष्ठ 60 सेकंड की ट्रेडिंग रणनीतियाँ

न्यूनतम लॉट

न्यूनतम लॉट

UTTHAN PATAN

कोरोनावायरस के कारण बाजार का बुरा हाल है। निवेशकों के मन में सवाल है कि कहां निवेश करना सही रहेगा। ऐसे में गोल्ड ईटीएफ में निवेश करना सही हो सकता है। क्योंकि बाजार में गिरावट का असर सोने पर ज्यादा नहीं हुआ है और विशेषज्ञों की मानें तो मुसीबत टलने के बाद सोना जल्दी ही फिर से मजबूत हो जाएगा। गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) सोने में निवेश करने का एक सरल तरीका है। इसे पेपर गोल्ड भी कहते हैं। इन्हें शेयरों की तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के कैश मार्केट में खरीदा-बेचा जा सकता है। इसमें कोई न्यूनतम लॉट साइज नहीं होता है। गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट एक ग्राम सोने के बराबर होती है। निवेशक इसकी यूनिट्स को एकमुश्त या फिर सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) के जरिये थोड़ा-थोड़ा भुगतान कर खरीद सकते हैं। इससे जुड़ी खास बातें.

गोल्ड ईटीएफ के फायदे
गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) के जरिए निवेशक इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से सोना खरीद/बेच सकते हैं और आर्बिटेज गेन (एक मार्केट से खरीदकर दूसरे मार्केट में बेचने पर लाभ) हासिल कर सकते हैं। भारत में गोल्ड ईटीएफ 2007 से चल रहे हैं और एनएसई और बीएसई में रेगुलेटेड इंस्ट्रूमेंट्स हैं। इन्हें कई म्यूचुअल फंड स्कीम्स के जरिए खरीद सकते हैं, जो बुलियन, माइनिंग या सोने के उत्पादन से जुड़े सहयोगी बिजनेसों में निवेश करती हैं। गोल्ड ईटीएफ में निवेश के कई फायदे हैं, जो इसे सोने के अन्य विकल्पों से बेहतर बनाते हैं।

इसे खरीदना है आसान
गोल्ड ईटीएफ खरीदने के लिए आपको अपने ब्रोकर के माध्यम से डीमैट अकाउंट खोलना होता है। इसमें एनएसई पर उपलब्ध गोल्ड ईटीएफ के यूनिट आप खरीद सकते है और उसके बराबर की राशि आपके डीमैट अकाउंट से जुड़े बैंक अकाउंट से कट जाएगी। आपके डीमैट अकाउंट में ऑर्डर लगाने के दो दिन बाद गोल्ड ईटीएफ आपके अकाउंट में डिपाजिट हो जाते हैं। ईटीएफ के जरिए सोना यूनिट्स में खरीदते हैं, जहां एक यूनिट एक ग्राम की होती है। इससे कम मात्रा में या एसआईपी (सिस्टमेटिक इंवेस्टमेंट प्लान) के जरिए सोना खरीदना आसान हो जाता है। वहीं भौतिक (फिजिकल) सोना आमतौर पर तोला (10 ग्राम) के भाव बेचा जाता है। ज्वैलर से खरीदने पर कई बार कम मात्रा में सोना खरीदना संभव नहीं हो पाता।

नहीं होगी ठगी की संभवना
गोल्ड ईटीएफ की कीमत पारदर्शी और एक समान होती है। यह लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन का अनुसरण करता है, जो कीमती धातुओं की ग्लोबल अथॉरिटी है। वहीं फिजिकल गोल्ड की अलग-अलग विक्रेता/ज्वैलर अलग-अलग कीमत पर दे सकते हैं।

मिलता है शुद्ध सोना
गोल्ड ईटीएफ से खरीदे गए सोने की 99.5% शुद्धता की गारंटी होती है, जो कि सबसे उच्च स्तर की शुद्धता है। आप जो सोना लेंगी उसकी कीमत इसी शुद्धता पर आधारित होगी।

इसे खरीदने में आता है कम खर्च
गोल्ड ईटीएफ खरीदने में 0.5% या इससे कम का ब्रोकरेज लगता और पोर्टफोलियो मैनेज करने के लिए सालाना 1% चार्ज देना पड़ता है। लेकिन, अन्य टैक्स जैसे कि वैट देने की ज़रूरत इसमें नहीं होती है। यह उस 8 से 30 फीसदी मेकिंग चार्जेस की तुलना में कुछ भी नहीं है जो ज्वैलर और बैंक को देना पड़ता है, भले ही आप सिक्के या बार खरीदें।

इसमें मिलता है बेहतर रिटर्न
ईटीएफ सोना बेचने या खरीदने में ट्रेडर्स को सिर्फ ब्रोकरेज देना होता है। वहीं फिजिकल गोल्ड में लाभ का बड़ा हिस्सा मेकिंग चार्जेस में चला जाता है और यह सिर्फ ज्वैलर्स को ही बेचा जा सकता है, भले ही सोना बैंक से ही क्यों न लिया हो। गोल्ड ईटीएफ आपको लिक्विडिटी मुहैया कराता है। यानी आप कभी भी इसे बेच सकते हैं और उस समय चल रही सोने की कीमत आपको मिल जाती है।

रखने में रिस्क नहीं
इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड डीमैट एकाउंट में होता है जिसमें सिर्फ वार्षिक डीमैट चार्ज देना होता है। साथ ही चोरी होने का डर नहीं होता। वहीं फिजिकल गोल्ड में चोरी के खतरे के अलावा उसकी सुरक्षा में भी खर्च करना होता है।

न्यूनतम लॉट

Compliance warning!

The service is not provided in your country of residence.

अपनी कमाई की संभावना को सिर्फ़ एक प्रकार के खाते तक क्यों सीमित रखें? Forex4you के सभी 4 प्रकार के खातों पर नज़र डालें। आपकी ट्रेडिंग स्टाइल के लिए सही खाता पाएँ जिसमें आदर्श ट्रेडिंग परिस्थितियाँ और एक्ज़ीक्यूशन के प्रकार हों।

आप खुद भागीदार के इनाम के स्तर निर्धारित कर सकते हैं। हो सकता है कि ऊँचे इनामों से आपके बड़े नेटवर्क के भागीदार आपके लिए और ज़्यादा नए फ़ॉलोअर लाने के लिए प्रेरित होंगे।

अब आप 150 से भी ज़्यादा ट्रेडिंग विलेखों में ट्रेड करके लाभ कमा सकते हैं जो 5 बड़ी श्रेणियों में हैं – फोरेक्स, कमॉडिटी, इंडेक्स, स्टॉक और क्रिप्टो।

E-Global Trade & Finance SVG LLC is registered under registration number 1440 LLC 2021 in the jurisdiction of Saint Vincent and the Grenadines, with its registered office at 1st Floor, First St. Vincent Bank Ltd Building, James Street, Kingstown, VC0100, St.Vincent & the Grenadines. E-Global Trade & Finance SVG LLC is a member of The Financial Commission, an international independent organization that resolves disputes in the field of financial services in the international foreign exchange market.

TFG Global Limited, registered address: registration number: HE256089, registered address: 61 Agiou Pavlou Street, 1st Floor, Office 6, 1107 Nicosia, Cyprus, entered into a partnership agreement with E-Global Trade & Finance SVG LLC.

जोखिम की चेतावनी: फोरेक्स बाज़ार में ट्रेडिंग करने में काफ़ी जोखिम रहता है, जिसमें आपकी सारी पूँजी का संभावित नुकसान भी शामिल है। सभी निवेशकों और ट्रेडर्स के लिए ट्रेडिंग करना उपयुक्त नहीं होता है। लेवरेज बढ़ाने से आपका जोखिम भी बढ़ता है। कृपया हमारा Risk Disclosure पढ़ें और पक्का करें कि आपको यह पूरी तरह समझ में आ गया है।

यह सेवा इन क्षेत्रों के निवासियों के लिए उपलब्ध नहीं है: संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और यूरोपियन आर्थिक क्षेत्र।

Share4you और Forex4you दोनों E-Global Trade & Finance Group, Inc के ट्रेडमार्क हैं।

सेबी ने रीट, इनविट के लिये न्यूनतम आवेदन राशि, कारोबारी ‘लॉट’ घटाया

SEBI reduces minimum application amount, business 'lots' for REIT, INVIT | सेबी ने रीट, इनविट के लिये न्यूनतम आवेदन राशि, कारोबारी ‘लॉट’ घटाया

सेबी ने रीट, इनविट के लिये न्यूनतम आवेदन राशि, कारोबारी ‘लॉट’ घटाया

नयी दिल्ली, 29 जून सेबी ने खुदरा निवेशकों के बीच रीट और इनविट को लोकप्रिय बनाने को लेकर मंगलवार को महत्वपूर्ण कदम उठाया। इसके तहत बाजार नियामक ने न्यूनतम आवेदन राशि और कारोबार के लिये यूनिट की संख्या (लॉट) को कम किया है।

सेबी ने मंगलवार को हुई निदेशक मंडल (बोर्ड) की बैठक के बाद जारी बयान में कहा कि रीट (रियल एस्टेट निवेश ट्रस्ट) और इनविट (बुनियादी ढांचा निवेश ट्रस्ट) के लिये न्यूनतम आवेदन मूल्य 10,000 रुपये से 15,000 रुपये के दायरे में होगी जबकि कारोबार ‘लॉट’ (यूनिट संख्या) एक यूनिट होगी। यानी अब रीट और इनविद के एक यूनिट को भी खरीदा अथवा बेचा जा सकेगा।

इसके अलावा नियामक ने गैर-सूचीबद्ध इनविट के लिये न्यूनतम यूनिटधारकों की संख्या तय करने का निर्णय किया है।

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कहा, ‘‘प्रायोजक, संबंधित पक्षों और उसके सहयोगियों के अलावा यूनिट धारकों की न्यूनतम संख्या पांच होनी चाहिए। साथ ही उनके पास इनविट की कुल इकाई पूंजी का कम से कम 25 प्रतिशत होना चाहिये।’’

बयान के अनुसार सेबी बोर्ड ने न्यूनतम आवेदन मूल्य और कारोबार ‘लॉट’ को लेकर रीट और इनविट नियमनों में संशोधन को मंजूरी दे दी है।

इसमें कहा गया है ‘‘संशोधित न्यूनतम आवेदन मूल्य 10,000 से 15,000 के दायरे में होना चाहिए और संशोधित कारोबारी लॉट एक यूनिट हो सकता है।’’

मौजूदा नियमों के तहत आरंभिक सार्वजनिक निर्गम और अनुवर्ती सार्वजनिक निर्गम के लिये न्यूनतम न्यूनतम लॉट आवेदन मूल्य इनविट के मामले में कम-से-कम एम लाख रुपये और रीट के लिये 50,000 रुपये है।

वहीं लॉट यानी यूनिट की संख्या के मामले में प्रारंभिक सूचीबद्धता के समय कारोबारी लॉट 100 यूनिट रखी गई है। जबकि अनुवर्ती सार्वजनिक निर्गम के अंतर्गत प्रत्येक लॉट में इतनी संख्या में यूनिट होने चाहिए जितनी कि प्रारंभिक पेशकश के समय थी।

कर परामर्श से जुड़ी बीडीओ इंडिया में भागीदार सुरज मलिक ने कहा कि रीट और इनविट के लिये आवेदन मूल्य और कारोबारी लॉट में कमी से ऐसे वित्तीय उत्पादों में खुदरा निवेशकों की भागीदारी बढ़ेगी।

उन्होंने कहा, ‘‘सरकार स्वयं सार्वजनिक क्षेत्र की संपत्तियों को बाजार पर चढ़ाने के लिये रीट/इनविट का उपयोग करने पर विचार कर रही है, ऐसे में खुदरा निवेशकों को आकर्षित करने में मदद मिलेगी।’’

इंडीग्रिड के सीईओ हर्ष शाह ने कहा कि कारोबाबरी लॉट के आकार को कम करना महत्वपूर्ण कदम है। इससे देश में इनविट लोकप्रिय होगा।

Disclaimer: लोकमत न्यूनतम लॉट हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

IPO में निवेश करना हो जाएगा बेहद आसान, छोटे इनवेस्टर्स के लिए हो सकता है बड़ा फैसला

छोटे निवेशकों (small investors) के लिए आईपीओ (IPO) में निवेश करना आने वाले दिनों में आसान हो सकता है क्योकि बाजार विनियामक आईपीओ में निवेश के लॉट की साइज को कम करने पर विचार कर रहा है.

छोटे इनवेस्टर्स के लिए न्यूनतम लॉट IPO में पैसा लगाना हो जाएगा आसान (फोटो - रॉयटर्स )

छोटे निवेशकों (small investors) के लिए आईपीओ (IPO) में निवेश करना आने वाले दिनों में आसान हो सकता है क्योकि बाजार विनियामक आईपीओ में निवेश के लॉट की साइज को कम करने पर विचार कर रहा है. जानकारी के अनुसार, Exchange Board of India (SEBI) इनिशियल पब्लिक ऑफर यानी आईपीओ में निवेश की न्यूनतम रकम 15,000 रुपये से कम करके 7,500 रुपये करने के संबंध में विचार कर रहा है. जानकार बताते हैं कि अगर ऐसा होता है तो छोटे निवेशक या जिनकी आय कम है वो भी आईपीओ में निवेश करने के बारे में सोच पाएंगे. वर्तमान में आईपीओ में एक लॉट में निवेश की न्यूनतम रकम 15,000 रुपये है. जानकार न्यूनतम लॉट बताते हैं कि कई रिटेल इन्वेस्टर्स एसोसिएशन ( retail investors associations) ने बाजार विनियामक (market regulators) को आईपीओ के लॉट साइज की रकम में कटौती करने का सुझाव दिया है.

2020 में IPO ने रीटेल इनवेस्टर्स को अच्छी कमाई काई Retail investors
2020 में IPO ने रीटेल इनवेस्टर्स (Retail investors) को अच्छी कमाई कराई थी. हैपिएस्‍ट माइंड टेक्‍नोलॉजी (Happiest Minds Technologies) का आईपीओ पिछले साल सबसे कामयाब पब्लिक इश्यू में शामिल रहा था. यह तय साइज से 150 गुना सब्सक्राइब हुआ था. इसमें रिटेल इनवेस्टर्स का पोर्शन 70.94 गुना सब्सक्राइब हुआ था. वहीं, साल 2021 में पेश किया गया बेक्टर्स फूड का आईपीओ तय आकार से 68 गुना सब्सक्राइब हुआ था. 2021 की शुरुआत में आए कई आईपीओ ने भी इनवेस्टर्स को अच्छी कमाई कराई.

Indigo Paints IPO का Allotment आज होगा
Indigo Paints IPO Share Allotment Today: इंडिगो पेंट्स के आईपीओ को इनवेस्टर्स का काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है. लोगों ने इस IPO में दिल खोल कर पैसा लगाया है. इस IPO को 117 गुना सब्सक्रिप्शन मिला है. 55.18 लाख शेयरों के लिए लाए गए इस आईपीओ में लोगों ने लगभग 64.58 करोड़ शेयरों के लिए बोली लगाई है. Indigo Paints का IPO 1,170 करोड़ रुपये का था. तीन दिनों में 117 गुना सब्सक्रिप्शन मिलने के बाद ये इस साल का अब तका सबसे बड़ा आईपीओ बन चुका है. आज 28.01.2021 को इस आईपीओ के तहत शेयर Allotment किए जाएंगे. इस Allotment में शेयर मिले की नहीं ये आप बड़ी आसानी से न्यूनतम लॉट चेक कर सकते हैं. आईये जानते हैं चेक करने का क्या है सबसे आसान तरीका.

Indigo Paints IPO Share Allotment Status: इस तरह चेक करें

  • Step 1 - Go to link - https://linkintime.co.in/IPO/public-issues.html
  • Step 2 -Select the company name (Indigo Paints)
  • Step 3- Select your either PAN, Application Number, DP/Client ID or Account No/IFSC
  • Step 4 -Enter your either PAN, Application Number, DP/Client ID or Account No (along with IFSC Code)
  • Step 5 - Enter captcha code and submit to know the Indigo Paints IPO Share Allotment Status

bseindia के जरिए ऐसे चेक करें

  • Step 1 - Go to link - https://www.bseindia.com/investors/appli_check.aspx
  • Step 2 - Select Equity
  • Step 3 - Select Issue Name (Indigo Paints)
  • Step 4- Enter Application Number as well as PAN
  • Step 5 - Click on search button to know the Indigo Paints IPO Share Allotment Status

ज़ी बिज़नेस LIVE TV यहां देखें

Zee Business App: पाएं बिजनेस, शेयर बाजार, पर्सनल फाइनेंस, इकोनॉमी और ट्रेडिंग न्यूज, देश-दुनिया की खबरें, देखें लाइव न्यूज़. अभी डाउनलोड करें ज़ी बिजनेस ऐप.

Delhivery IPO: लॉजिस्टिक्स स्टार्टअप के ग्रे मार्केट प्राइस में भारी गिरावट, चेक करें लेटेस्ट रेट

लॉजिस्टिक स्टार्टअप डेल्हीवरी का आईपीओ 11 मई को बाजार में दस्तक देगा.

सरकारी जीवन बीमा कंपनी एलआईसी के मेगा न्यूनतम लॉट आईपीओ के बाद यह आईपीओ 11 मई को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा और 13 मई को बंद होगा. पात्र निवेशकों के डीमैट अकाउंट में न्यूनतम लॉट न्यूनतम लॉट इसके शेयर 23 मई को आएंगे. जबकि दोनों एक्सचेंज पर इसकी लिस्टिंग 24 मई को होगी. इस आईपीओ का प्राइस बैंड 462-487 रुपये तय किया गया है. इसके जरिये कंपनी की योजना 5,235 करोड़ रुपये जुटाने की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : May 06, 2022, 12:41 IST

नई दिल्ली. गुरुग्राम की लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन स्टार्टअप डेल्हीवरी (Delhivery) का पब्लिक इश्यू अगले हफ्ते निवेशकों के लिए खुलेगा. इस आईपीओ का प्राइस बैंड न्यूनतम लॉट 462-487 रुपये तय किया गया है. इसके जरिये कंपनी की योजना 5,235 करोड़ रुपये जुटाने की है.

सरकारी जीवन बीमा कंपनी एलआईसी के मेगा आईपीओ के बाद यह आईपीओ 11 मई को सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा और 13 मई को बंद होगा. 19 मई को इसके शेयर अलॉट किए जाएंगे और पात्र निवेशकों के डीमैट अकाउंट में इसके शेयर 23 मई को आएंगे. दोनों एक्सचेंज पर इसकी लिस्टिंग 24 मई को होगी.

जीएमपी में 37 फीसदी की गिरावट

ग्रे मार्केट में भी इस आईपीओ की एंट्री हो गई है. लाइव मिंट ने बाजार के जानकारों के हवाले से बताया है कि शुक्रवार को डेल्हीवरी आईपीओ की जीएमपी (ग्रे मार्केट प्रीमियम) गुरुवार के मुकाबले घटकर 16 रुपये रह गई है. गुरुवार को इसका जीएमपी 25 रुपये पर ट्रेंड कर रहा था. इस लिहाज से इसके जीएमपी में 9 रुपये यानी करीब 37 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है.

जीएमपी अनऑफिशियल डेटा होता है. बाजार विशेषज्ञ इसके आधार पर निवेश से बचने की सलाह देते हैं. यह एक तरह से इस बात का अनुमान होता है कि पब्लिक इश्यू लाने वाली कंपनी के शेयर की बाजार में लिस्टिंग किस प्रीमियम पर होगी.

इतना करना होगा न्यूनतम निवेश

इस इश्यू का एक लॉट 30 शेयरों का है. आम निवेशक न्यूनतम एक लॉट और अधिकतम 13 लॉट के लिए आवेदन कर सकते हैं. इस लिहाज से निवेशकों को न्यूनतम 14,610 रुपये निवेश करने होंगे. जबकि अधिकतम 1,89,930 रुपये तक निवेश कर सकते हैं. आईपीओ के तहत 4,000 करोड़ रुपये के फ्रेश इश्यू जारी किए जाएंगे, जबकि 1,235 करोड़ रुपये का ऑफर फॉर सेल (OFS) होगा. पहले इस आईपीओ का आकार 7,460 करोड़ रुपये था. कोटक महिंद्रा कैपिटल कंपनी, बोफा सिक्योरिटीज इंडिया, मॉर्गन स्टेनली इंडिया कंपनी और सिटीग्रुप ग्लोबल मार्केट्स इंडिया इस इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं.

आईपीओ से जुटाई गई पूंजी में से 2,000 करोड़ रुपये का इस्तेमाल कंपनी ऑर्गेनिक ग्रोथ के लिए करेगी. इनमें मौजूदा बिजनेस का विस्तार करना और नए बिजनेस को विकसित करना शामिल है. इसके अलावा डेल्हीवरी 1,000 करोड़ रुपये का इस्तेमाल अधिग्रहण और अन्य रणनीतिक पहलुओं में करेगी. ई-कॉमर्स लॉजिस्टिक्स डेल्हीवरी का नेटवर्क देशभर में है. 30 जून, 2021 तक के आंकड़ों के मुताबिक, यह 17,045 पिन कोड में सेवाएं प्रदान करती है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.37
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 446
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *