ट्रेडिंग संकेतों

एफएक्ससीसी

एफएक्ससीसी

इंटरनेट एक्सेस क्या है? - टेक्नोपेडिया से परिभाषा

इंटरनेट का उपयोग उपयोगकर्ताओं या उद्यमों द्वारा व्यक्तिगत कंप्यूटर, लैपटॉप या मोबाइल उपकरणों का उपयोग करके इंटरनेट से कनेक्ट करने की प्रक्रिया है। इंटरनेट का उपयोग डेटा सिग्नलिंग दरों के अधीन है और उपयोगकर्ताओं को विभिन्न इंटरनेट गति से जोड़ा जा सकता है। इंटरनेट का उपयोग व्यक्तियों या संगठनों को इंटरनेट सेवाओं / वेब-आधारित एफएक्ससीसी एफएक्ससीसी सेवाओं का लाभ उठाने में सक्षम बनाता है।

Techopedia इंटरनेट एक्सेस की व्याख्या करता है

इंटरनेट का उपयोग अक्सर घर, स्कूलों, कार्यस्थलों, सार्वजनिक स्थानों, इंटरनेट कैफे, पुस्तकालयों और अन्य स्थानों पर प्रदान किया जाता है। इंटरनेट ने डायल-अप इंटरनेट एक्सेस के साथ लोकप्रियता हासिल करना शुरू कर दिया। अपेक्षाकृत कम समय में, इंटरनेट एक्सेस प्रौद्योगिकियों में बदलाव आया, जो तेजी से और अधिक विश्वसनीय विकल्प प्रदान करता है। वर्तमान में, ब्रॉडबैंड तकनीकें जैसे केबल इंटरनेट और एडीएसएल इंटरनेट एक्सेस के लिए सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली विधियां हैं। इंटरनेट एक्सेस की गति, लागत, विश्वसनीयता और उपलब्धता क्षेत्र, इंटरनेट सेवा प्रदाता और कनेक्शन के प्रकार पर निर्भर करती है।

इंटरनेट एक्सेस प्राप्त करने के कई अलग-अलग तरीके हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • ताररहित संपर्क
  • मोबाइल कनेक्शन
  • हॉटस्पॉट्स
  • डायल करें
  • ब्रॉडबैंड
  • डीएसएल
  • उपग्रह

किसी क्षेत्र के लिए इंटरनेट एक्सेस के स्तर को समझने के लिए कंप्यूटर या स्मार्ट उपकरणों तक पहुंच महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। हालाँकि, इंटरनेट का उपयोग समान रूप से या देशों के बीच वितरित नहीं किया जाता है। एक डिजिटल डिवाइड कई देशों और क्षेत्रों के बीच मौजूद है। अच्छा इंटरनेट एक्सेस उच्च आय आबादी, उच्च विकास सूचकांक और उच्च तकनीकी विकास वाले क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है।

इंटरनेट एक्सेस क्या है? - टेक्नोपेडिया से परिभाषा

इन्फोग्राफिक: युवा पेशेवर पैसे से अधिक इंटरनेट एक्सेस चाहते हैं?

इन्फोग्राफिक: युवा पेशेवर पैसे से अधिक इंटरनेट एक्सेस चाहते हैं?

2011 में सिस्को द्वारा जारी एक वैश्विक सर्वेक्षण से पता चला कि तीन उत्तरदाताओं में से एक ने इंटरनेट का उपयोग एफएक्ससीसी हवा, भोजन, आश्रय और पानी के रूप में महत्वपूर्ण माना। दूसरे शब्दों में, वे इसके बिना नहीं रह सकते थे। वास्तव में, कई युवा कार्यकर्ता .

चीजों की इंटरनेट (iot) के लिए शीर्ष ड्राइविंग बल क्या हैं?

चीजों की इंटरनेट (iot) के लिए शीर्ष ड्राइविंग बल क्या हैं?

कुछ महत्वपूर्ण तकनीकी विकासों द्वारा संचालित इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), अगली तकनीकी लहर बनने की राह पर है। गार्टनर के अनुसार, IoT उत्पादों और सेवाओं से राजस्व $ 300 बिलियन से अधिक हो जाएगा .

रिमोट एक्सेस ट्रोजन हमले बढ़ रहे हैं - आप अपनी रक्षा कैसे कर सकते हैं

रिमोट एक्सेस ट्रोजन हमले बढ़ रहे हैं - आप अपनी रक्षा कैसे कर सकते हैं

हालांकि कई ट्रोजन को पुराने हमलों के रूप में देखा गया है जिन्हें अधिक परिष्कृत मैलवेयर द्वारा बदल दिया गया है, रिमोट एक्सेस ट्रोजन ने हाल ही में उपयोग में वृद्धि देखी है।

What is Bluebugging, ब्लूजैकिंग, ब्लूस्नार्फिंग और ब्लूबगिंग क्या है जाने विस्तार

What is Bluebugging : आजकल सभी स्मार्ट डिवाइस और गैजेट्स में ब्लूटूथ कनेक्टिविटी दिया जाता है। ब्लूटूथ किसी भी डिवाइस को कनेक्ट करने के लिए या फिर फाइल शेयरिंग के लिए बनाया गया एक फीचर है। यह एक ऐसा फीचर है जिससे आप अपने मोबाइल, स्मार्टफोन, लैपटॉप, टेबलेट को किसी अन्य डिवाइस के साथ आसानी से कनेक्ट कर सकते हैं, लेकिन इसके एफएक्ससीसी अपने ही अलग कई तरह के खतरे हैं और यह प्राइवेसी और सिक्योरिटी के लिहाज से भी खतरनाक है, अगर आप भी डिवाइस पेयरिंग के लिए ब्लूटूथ का इस्तेमाल करते हैं तो ब्लूजैकिंग, ब्लूबगिंग एवं ब्लूस्नार्फिंग के खतरे के बारे में जान लें, अगर आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं और विशेषज्ञ मार्गदर्शन की तलाश कर रहे हैं, तो आप हमारे जनरल अवेयरनेस ई बुक डाउनलोड कर सकते हैं FREE GK EBook- Download Now. / सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इस ऐप से करें फ्री में प्रिपरेशन - Safalta Application

आजकल स्मार्ट डिवाइस में ब्लूटूथ का उपयोग भी तेजी से बढ़ गया है, क्योंकि लोग अपनी एअरबड्स, नैकबैंड, हेडफोन को ब्लूटूथ से कनेक्ट करके फाइल शेयर करते हैं या फिर गाना सुनने या वीडियो देखते हैं, सभी स्मार्ट डिवाइस में ब्लूटूथ फिचर होता है, स्मार्टफोन, आईओटी डिवाइस से लेकर कंप्यूटर एवं कार में ब्लूटूथ का फिचर दिया गया होता है। अगर आप ब्लूटूथ का सावधानीपूर्वक इस्तेमाल नहीं करेंगे तो फिर इससे ब्लूजैकिंग, ब्लूबगिंग एवं ब्लूस्नार्फिंग का खतरा बढ़ सकता है। यह आपकी प्राइवेसी और सिक्योरिटी के लिए नुकसान पहुंचा सकता है।

अगर आप इससे बचना चाहते हैं तो आप को जानना होगा कि इससे आप अपने आप को कैसे सुरक्षित रख सकते हैं। GK Capsule Free एफएक्ससीसी pdf - Download here

ब्लूजैकिंग


ब्लूटूथ के माध्यम से होने वाले ब्लूजैकिंग की बात करें तो यह कम खतरनाक कैटेगरी में रखा जाने वाला हमला है। ब्लूजैकिंग में ब्लूटूथ पर अनवॉनटेड मैसेज भेजना शामिल है। ब्लूजैकिंग में आप अपने ब्लूटूथ को ऑन रखें हैं या फिर ब्लूटूथ एक्टिव है तो आपके आसपास दूसरा व्यक्ति आपको मैसेज भेजने के लिए ब्लूटूथ का उपयोग कर सकता है।

Free Demo Classes

Register here for Free Demo Classes

Waw! Just one step away to get free demo classes.

जैसा आप बिल्कुल भी नहीं चाहेंगे कि कोई आपके ब्लूटूथ के माध्यम से डिवाइस को एक्सेस करें, ब्लूजैकिंग के जरिए आपको डिवाइस पर कुछ भी इंस्टॉल नहीं किया जा सकता है या फिर उसे कंट्रोल में नहीं लिया जा सकता है। इसलिए ज्यादातर मामलों में ब्लूजैकिंग ज्यादा नुकसानदायक नहीं है। इसमें हमलावर आपको अनवॉनटेड कांटेक्ट भेज सकता है जोकि हानिकारक हैय़ मगर इससे कोई टेक्निक या इकोनामिक लॉस नहीं होती है। Free Daily Current Affair Quiz-Attempt Now with exciting prize

ब्लूस्नार्फिंग


ब्लूस्नार्फिंग की तुलना में ब्लूजैकिंग कि तुलना में ज्यादा खतरनाक है, ब्लूजैकिंग में पीड़ित को अनवांटेड कंटेंट भेजा जाता है वही ब्लूस्नार्फिंग में पीड़ित से कांटेक्ट या डाटा लिया जाता है, इस तरह के हमले में डिवाइस एक्सिस, पासवर्ड, फोटो, कांटेक्ट, डाटा चुराने के लिए ब्लूटूथ कनेक्शन में हेराफेरी की जाती है। इसमें खतरनाक बात यह है कि डाटा चोर का पता लगाना मुश्किल हो जाता है, ब्लूजैकिंग में तुरंत पता चल जाता है कि आपको मैसेज कौन भेज रहा है, मगर आप ब्लूस्नार्फिंग में नहीं देख सकते हैं कि कौन ब्लूटूथ पर आपका डाटा चुरा रहा है या हमलावर कौन हैं, यदि आप अपने डिवाइस पर कोई ब्लूटूथ एक्टिविटी देखते हैं तो जो कि आपने शुरू नहीं किया है तो वह ब्लूस्नार्फिंग का संकेत हो सकता है। इसमें हैकर किसी भी तरह के निशान छोड़े बिना 300 फीट की दूरी तक के डिवाइस को एक्सेस करने में सक्षम होता है। हमले के दौरान साइबर अपराधी कांटेक्ट, इनफार्मेशन, ईमेल, कैलेंडर, दूरबीन की खोज किसने की कैलेंडर एंट्रीज, पासवर्ड फोटो एवं अन्य पर्सनल आईडेंटिफिएबल इनफॉरमेशन, वीआईआई तक पहुंचने में सक्षम होता है और इसकी चोरी भी कर सकता है।


ब्लूबगिंग

ब्लूबगिंग और ब्लूस्नार्फिंग बहुत हद तक सामान है, इस तरह के हमले में हैकर डिवाइस तक पहुंच प्राप्त करने के बाद मालवेयर इंस्टॉल कर देता है ताकि उन्हें भविष्य में भी आसानी से उस डिवाइस में एक्सेस मिल सके। ब्लूबगिंग का एक उद्देश्य यह है कि आपके डिवाइस पर बाग या फिर जासूसी करना, ब्लूबगिंग में अपराधी आपको डिवाइस को दूर से भी कंट्रोल या एक्सेस करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं, दोनों पर होने वाली बातचीत को सुना जा सकता है या फिर बातचीत को हैकर थर्ड पार्टी तक को फॉरवर्ड करने में सक्षम होता है। ब्लूबगिंग हमले के दौरान हैकर एसएमएस पढ़ सकते हैं और उसका जवाब भी दे सकते हैं, इतना ही नहीं डिवाइस के मालिक को कॉल भी कर सकते हैं और ऑनलाइन अकाउंट या फिर में भी आसानी से पहुंच सकते हैं। ब्लूबगिंग के लिए पहला कदम पीड़ित के फोन को ब्लूटूथ के माध्यम से कनेक्ट करना होता है, जैसे कि ब्लूस्नर्फिंग में भी होता है। हमलावर डिवाइस पर मालवेयर इंस्टॉल करता है और भविष्य में भी मालवेयर से डिवाइस पर पूरी पहुंच के साथ कंट्रोल की राइट मिल जाती है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए इन करंट अफेयर को डाउनलोड करें

सुरक्षित नहीं रही फोन पर होने वाली बातचीत व डेटा, तेज़ी से एफएक्ससीसी फ़ैल रहा ब्लूबगिंग हैकिंग का चलन

ब्लूबगिंग हैकिंग का एक रूप है. इसके जरिए हैकर्स सर्च ब्लूटूथ कनेक्शन के माध्यम से यूजर के डेटा तक एक्सेस हासिल कर सकते हैं. एक बार जब हैकर्स आपके डिवाइस को हैक कर देता है, तो वह आपके फोन पर होने वाली सभी बातचीत को सुन सकता है. इतना ही नहीं हैकर्स आपके टेक्स्ट मैसेज भी पढ़ सकता है और उन्हें भेज भी सकता है. ब्लूबगिंग शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले 2004 में एक जर्मन शोधकर्ता मार्टिन हर्फर्ट ने उस समय किया था, जब उन्होंने देखा कि एक हैकर्स ने ब्लूटूथ से लैस लैपटॉप को हैक कर दिया.

ब्लूबगिंग हैकिंग पर एक्सपर्ट्स की राय

ब्लूबगिंग नामक एक प्रक्रिया के माध्यम से एक हैकर इन ऐप्स और डिवाइसों तक अनधिकृत एक्सेस प्राप्त कर सकते हैं और उन्हें अपनी इच्छा के अनुसार कंट्रोल कर सकते हैं. दरअसल, हाल ही में एक्सपर्ट्स ने पाया कि कोई भी ऐप जो ब्लूटूथ का उपयोग करती है, सिरी, फोन पर बातचीत और टेक्स्ट मैसेज जैसा आपका डेटा रिकॉर्ड कर एफएक्ससीसी सकती है.

अगर आपका डिवाइस हैकर के लगभग 10 मीटर के दायरे में हैं, तो वह उसे आसानी से हैक कर सकता है. हैकर्स आपके डिवाइस के साथ पेयरिंग करने के बाद उसमें मैलवेयर इंस्टॉल कर देता है और आपके डिवाइस की सिक्योरिटी को डिसएबल कर देता है. इसके बाद हैकर्स आसानी से आपके डेटा तक हासिल कर सकता है.

आप आसानी से खुद ब्लूबगिंग से बचा सकते हैं. इसके लिए आपको कुछ स्टेप्स फॉलो करने होंगे. अगर ब्लूटूथ का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं, तो इसे ऑफ कर दें. साथ ही किसी भी Unidentified डिवाइस से अपना डिवाइस पेयर न करें और न ही ऐसे डिवाइस की पेयर रिक्वेस्ट को स्वीकार करें.

1 साल की वैलिडिटी के साथ आते हैं Jio के ये 2 डेटा एफएक्ससीसी प्लान, जानें कीमत और बेनेफिट

अगर आप Jio ग्राहक हैं और एक अच्छे डेटा वाउचर की तलाश कर रहे हैं, तो यह 2 प्लान आपके काफी काम के साबित हो सकते हैं। इन प्लान्स को एक्टिवेट कराने के बाद आप सालभर तक भरपूर डेटा इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • ManishaManisha -->
  • Published: December 1, 2022 3:25 PM IST

Highlights

  • एक प्लान 1 साल तक डेली 2GB डेटा प्रोवाइड करता है
  • दूसरा प्लान डेली 2.5GB डेटा एक्सेस प्रोवाइड करता है
  • दोनों ही प्लान की वैलिडिटी 365 दिन तक की है

Reliance Jio

Reliance Jio देश की नंबर-वन टेलीकॉम कंपनी है। कंपनी के पोर्टफोलियो में कई शानदार प्लान शामिल हैं। एक्स्ट्रा डेटा की जरूरत को पूरा करने के लिए टेलीकॉम कंपनी यूजर्स के लिए डेटा एड-ऑन प्लान भी लेकर आती है। ये डेटा वाउंचर 15 रुपये की कीमत से शुरू होते हैं, जिसमें 1 दिन की वैलिडिटी के साथ 1GB डेटा प्रोवाइड किया जाता है। आज हम आपको इस प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी के ऐसे डेटा एड-ऑन प्लान की जानकारी देने जा रहे हैं, जो लंबी वैलिडिटी के साथ आते हैं। इन डेटा वाउचर्स की खासियत यह है कि इन प्लान्स के तहत डेटा वैलिडिटी पूरे 1 साल तक के लिए मिलती है। Also Read - JioGamesCloud भारत में हुआ लॉन्च, जानें इस प्लेटफॉर्म पर मुफ्त में कैसे खेलें गेम

अगर आप Jio ग्राहक हैं और एक अच्छे डेटा वाउचर की तलाश कर रहे हैं, तो यह 2 प्लान आपके काफी काम के साबित हो सकते हैं। इन प्लान्स को एक्टिवेट कराने के बाद आप सालभर तक भरपूर डेटा इस्तेमाल कर सकते हैं। जियो के इन दो लॉन्ग-टर्म वैलिडिटी वाले डेटा वाउचर्स की कीमत 2,878 रुपये और 2,998 रुपये है। Also Read - Jio ने बढ़ाई Instagram Reels और YouTube Shorts की टेंशन! ला रहा शॉर्ट वीडियो ऐप एफएक्ससीसी

2,878 रुपये का प्लान

2,878 रुपये वाले प्लान की बात करें, तो इस प्लान की वैलिडिटी 365 दिन यानी 1 साल तक की है। इस प्लान के तहत यूजर्स को डेली 2GB डेटा 1 साल के लिए मिलता है। 1 साल की वैलिडिटी के हिसाब से प्लान में 730GB डेटा एक्सेस यूजर को मिलेगा। डेली डेटा कोटा खत्म हो जाने के बाद इंटरनेट स्पीड घटकर @ 64 Kbps रह जाती है। Also Read - Jio Outage: 3 घंटे बाद दोबारा शुरू हुई जियो की सर्विस, नेटवर्क ठप पड़ने से यूजर्स रहे परेशान

2,998 रुपये का प्लान

2,998 रुपये वाले प्लान की बात करें, तो इस प्लान की वैलिडिटी भी 365 दिन यानी 1 साल तक की है। इस प्लान के तहत यूजर्स को डेली 2GB डेटा के बजाय डेली 2.5GB डेटा मिलता है। 1 साल के के हिसाब से प्लान में यूजर्स को 912.5GB डेटा एक्सेस मिलता है। डेली डेटा कोटा खत्म हो जाने के बाद इंटरनेट स्पीड घटकर @ 64 Kbps रह जाती है।

जैसे कि हमने बताया यह दोनों ही जियो के डेटा वाउचर्स हैं। इन प्लान्स में यूजर्स को सिर्फ और सिर्फ डेटा सुविधा ही मिलती है। कॉलिंग व एसमएस बेनेफिट्स के लिए यूजर्स को अन्य बेस प्लान एक्टिवेट कराना होगा।

  • Published Date: December 1, 2022 3:25 PM IST

दुनियाभर की लेटेस्ट tech news और reviews के साथ best recharge, पॉप्युलर मोबाइल पर एफएक्ससीसी मिलने वाले एक्सक्लूसिव offers के लिए हमें फेसबुक, ट्विटर पर फॉलो करें। Also follow us on Facebook Messenger for latest updates.

रेटिंग: 4.86
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 229
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *