ट्रेडिंग संकेतों

क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है

क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है
हालांकि बिटकॉइन का समर्थन करने वाला कोई प्राधिकरण नहीं है, बिटकॉइन का व्यापार करने के लिए किसी भी तारीके का उपयोग करने से पहले उस पर शोध करना चाहिए और सावधान रहना चाहिए क्योंकि आपके ऑनलाइन खाते पर किसी भी हैकिंग घटना के लिए एक्सचेंज जिम्मेदार नहीं होगा।

क्या भारत में बिटकॉइन वैध है?

किसी भी देश में बिटकॉइन की वैधता का पता लगाना बहुत मुश्किल है। लेकिन जब आप पहली बार इसमें कदम रख रहे हों तो कुछ ऐसे काम होते हैं जो इसमें कोई भी निवेश करने से पहले किए जाना जरूरी है। हो सकता है ये आपके देश में कानूनी हो, लेकिन मुद्दा केवल बिटकॉइन के वैद्य होने का नहीं है, बल्की यह भी पता होना चाहिए कि आपके देश में बिटकॉइन को कौन से नियम नियंत्रित करते हैं।

नीचे कुछ अहम प्रश्न दिए गए हैं जो भारत में बिटकॉइन के व्यापार से संबंधित हैं:

क्या बिटकॉइन भारत में वैद्य/legal है?

भारत में बिटकॉइन का विनियमन उद्यमियों और निवेशकों के लिए अभी भी एक संदिग्ध क्षेत्र है। लेकिन यह सच है कि भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपने नागरिकों को बिटकॉइन में लेनदेन करने पर चेतावनी दे रखी है। इसने आगाह क्या है कि बिटकॉइन या कोई अन्य आभासी मुद्रा कानूनी निविदा नहीं है और इसे एक मुद्रा के रूप में संचालित करने के लिए कोई नियामक अनुमति नहीं है।

यदि आप भारत में बिटकॉइन खरीदना चाहते हैं, तो आपको बिटकॉइन एक्सचेंज पर अपना पंजीकरण कराना होगा। ये एक्सचेंज आपको भारतीय रुपये के साथ बिटकॉइन खरीदने/बेचने की अनुमति देते हैं।

अभी तक, WazirX सबसे लोकप्रिय एक्सचेंजों में से एक है जहाँ आप INR के साथ बिटकॉइन खरीद और बेच सकते हैं।

भारत में बिटकॉइन बेचने का क्या तारीका है?

यदि आप भारत में बिटकॉइन बेचना चाहते हैं, तो आपको अपने बिटकॉइन को बिटकॉइन एक्सचेंज पर जमा करके इसे INR में परिवर्तित करना होगा। ऐसा करने के लिए आप रूपया अपने बैंक खाते में भी जमा कर सकते हैं।

भारत में बिटकॉइन ATM के बारे में जानकारी के लिए ज्यादा विश्वसनीय स्रोत नहीं मिलते। लेकिन यह कहना सुरक्षित होगा कि अभी तक ऐसे कोई ATM यहाँ मौजूद नहीं हैं।

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर क्या चाहता है RBI? वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर क्या चाहता है RBI? वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया

RBI ने 24 दिसंबर 2013, एक फरवरी 2017 और पांच दिसंबर 2017 को सार्वजनिक नोटिसों के माध्यम से डिजिटल करेंसी के यूजर्स, धारकों और व्यापारियों को आर्थिक, वित्तीय, कानूनी, ग्राहक सुरक्षा और सुरक्षा संबंधी जोखिमों से आगाह किया है.

किसी देश की मौद्रिक (Monetary) और राजकोषीय स्थिरता पर क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के अस्थिर प्रभाव से जुड़ी चिंताओं के मद्देनजर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इस क्षेत्र पर कानून बनाने की सिफारिश की है. यह बात केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को लोकसभा में कही. वित्त मंत्री के अनुसार आरबीआई का मानना है कि क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए.

राजकोषीय स्थिरता पर दुष्प्रभाव

सीतारमण ने बताया कि फिएट मुद्राओं का मूल्य मौद्रिक नीति और वैध मुद्रा के रूप में उनकी स्थिति पर निर्भर होता है हालांकि क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है क्रिपटोकरेंसी का मूल्य पूरी तरह से अटकलों एवं उच्च रिटर्न की उम्मीदों पर निर्भर करता है जो स्थिर है. उन्होंने कहा कि इसलिए किसी देश की मौद्रिक और राजकोषीय स्थिरता पर इसका एक अस्थिर प्रभाव होगा. बता दें कि फिएट मनी सरकार द्वारा जारी एक मुद्रा है. इसका अपना कोई मूल्य नहीं है, लेकिन इसका मूल्य सरकारी नियमों से लिया गया है.

सीतारमण ने बताया कि किसी देश की मौद्रिक और राजकोषीय स्थिरता पर क्रिप्टोकरेंसी के अस्थिर प्रभाव संबंधी चिंताओं के मद्देनजर आरबीआई ने इस क्षेत्र पर कानून बनाने की सिफारिश की है. आरबीआई का मानना है कि क्रिप्टोकरेंसी को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए. आरबीआई क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है ने 24 दिसंबर 2013, एक फरवरी 2017 और पांच दिसंबर 2017 को सार्वजनिक नोटिसों के माध्यम से डिजिटल करेंसी के यूजर्स, धारकों और व्यापारियों को आर्थिक, वित्तीय, कानूनी, ग्राहक सुरक्षा और सुरक्षा संबंधी जोखिमों से आगाह किया है.

क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है

    /
  • Answer Writing

प्रश्न. एक कानूनी निविदा(legal tender) के रूप में क्रिप्टोकरेंसी की क्षमता की व्याख्या करें। क्रिप्टोकरेंसी को वैध बनाने से जुड़ी चुनौतियाँ क्या हैं?

उत्तर: एक क्रिप्टोकरेंसी एक व्यापार योग्य डिजिटल संपत्ति या पैसे का डिजिटल रूप है। यह एक कानूनी निविदा नहीं है फिर भी दुनिया भर में तेजी से उपयोग की जाती है। कई देश अपनी घरेलू अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए क्रिप्टोकरेंसी को कानूनी निविदा के रूप में अपनाने की योजना बना रहे हैं।

क्रिप्टोकरेंसी के संभावित लाभ –

  • मुद्रास्फीति क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है से अप्रभावित:
    क्रिप्टोकरेंसी मुद्रास्फीति से प्रभावित नहीं है। क्रिप्टोकरेंसी की क्रय शक्ति वैश्विक स्थितियों या आर्थिक संकट से अप्रभावित रहती है।
  • गैर सरकारी नियंत्रण:
    सरकार क्रिप्टोकरेंसी परिसंपत्तियों पर नियंत्रण नहीं रखती है। यह उपयोगकर्ताओं को अपने वित्तीय लेनदेन की गोपनीयता सुनिश्चित करने की अनुमति देता है।
  • प्रतिबंध पर काबू पाना:
    कई देशों पर वित्तीय प्रतिबंध लगाए गए हैं, जो उन्हें पारंपरिक बैंकिंग से अलग कर देता है। क्रिप्टोकरेंसी उन्हें प्रतिबंधों को दरकिनार करने में मदद करती है।

क्या क्रिप्टो पर टैक्स लगाने से इसे मिल गई है कानूनी मान्यता? जानें वित्ती मंत्री ने क्या कहा

डिंपल अलावाधी

Finance Minister Nirmala Sitharaman on whether cryptocurrency is legal in India or not

क्या क्रिप्टो पर टैक्स लगाने से इसे मिल गई है कानूनी मान्यता? जानें वित्ती मंत्री ने क्या कहा (Pic: iStock) 

  • वित्त मंत्री ने किप्टोकरेंसी पर सरकार का रुख साफ किया है।
  • उन्होंने कहा कि, टैक्स लगाने का मतलब किप्टोकरेंसी को मान्यता देना नहीं है।
  • किप्टो पर टैक्स लगाने का इसे रेगुलेट करने से कोई लेना-देना नहीं है।

क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने में अमेरिका और चीन से भी आगे हैं भारतीय और पाकिस्तानी-रिपोर्ट

क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने में अमेरिका और चीन से भी आगे हैं भारतीय और पाकिस्तानी-रिपोर्ट

क्रिप्टोकरेंसी हमारे जीवन पर वैसे ही असर डाल रही है जैसे कभी इंटरनेट ने किया था। हालांकि अभी भी इस बात पर अनिश्चितता है कि दुनिया भर की सरकारें इसे रेगुलेट कैसे करेंगी लेकिन नॉन-फंजीबल टोकन और विकेंद्रीकृत फाइनेंस प्रोजेक्ट्स में निवेश बढ़ रहा है। क्रिप्टो डॉट कॉम के अनुसार, इस साल वैश्विक स्तर पर क्रिप्टोकरेंसी रखने वाले लोगों की संख्या दोगुनी होकर लगभग 220 मिलियन हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार, निवेशकों ने क्रिप्टोकरेंसी में 2021 में लगभग $ 30 बिलियन का निवेश किया, क्या क्रिप्टोकरेंसी कानुनी रुप से वैध है जो पिछले सभी वर्षों की तुलना में अधिक है।
अल सल्वाडोर जैसे कुछ देशों ने बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार कर लिया है, कई देश अभी भी क्रिप्टो को लेकर सतर्क हैं। आइए उन शीर्ष छह देशों पर एक नज़र डालते हैं, जहां क्रिप्टो अपनाने की दर सबसे अधिक है, यह रिपोर्ट चैनालिसिस ग्लोबल क्रिप्टो एडॉप्शन इंडेक्स के आधार पर है-

रेटिंग: 4.95
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 868
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *