महत्वपूर्ण लेख

ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है

ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है
Data स्टोरेज का कार्य इसमें डाटा पूर्ण रूप से सुरक्षित होता है और प्राइवेसी का ध्यान भी रखा जाता है इस कारण आजकल ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से निर्मित क्रिप्टोकरंसी जैसे बिटकॉइन एंथिरन डॉगी को इन जैसे क्रिप्टोकरंसी की बाढ़ सी आ गई है

ब्लॉकचेन क्या हैं और Blockchain Technology कैसे काम करती है?

ब्लॉकचेन क्या है | ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी कैसे काम करता है? | Blockchain Technology in Hindi

ऐसी टेक्नोलॉजी है जो इंटरनेट आधारित सेवा के द्वारा प्रोसेस को कंप्लीट किया जाता है इसमें कंप्यूटर के द्वारा hardware और software का उपयोग कर data को छोटे छोटे block के रूप मे store किया जाता है हाई एंड कंप्यूटर सिस्टम द्वारा

इसकी टेक्नोलॉजी के कारण ही है इसे ब्लॉकचेन कहा जाता है, इसमें छोटे छोटे-छोटे ब्लॉक के रुप में डाटा को डाटा को स्टोर किया जाता है और यह डाटा स्टोरेज करने की ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है प्रक्रिया थोड़ी सी लंबी होती है

इस कारण बाकी डाटा स्टोरेज टेक्नोलॉजी की तुलना में यह थोड़ा स्लो तो है किंतु सिक्योर है क्योंकि इसमें डाटा छोटे-छोटे ब्लॉक के रूप में आपस में इकट्ठा होकर एक अपने आप में पुर्ण डिजिटल डाटा बनाते हैं और सभी डेटा एक जगह इक्कठा भी नही होते जिसके कारण इसे excess करने में वक्त लगता है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी कहां उपयोग की जा सकती है

बैंकिंग क्षेत्र में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग करना बहुत ही सुरक्षित हुआ है जिससे कि जालसाजी द्वारा पैसा का ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है स्थानांतरण या ऑनलाइन चोरी पैसों की फ्रॉड इत्यादि को रोका जा सकता है इसके अलावा बैंकिंग को बहुत ही सिक्योर किया जा सकता है जिससे कि किसी व्यक्ति का पैसा सही जगह पर सेव रहे

2 चिकित्सा एवं स्वास्थ्य- ब्लॉकचेन का प्रयोग कर मरीजों के विवरण इत्यादि को संचित करने हेतु किया जाता रहा है। यह प्रौद्योगिकी यह सुनिश्चित करता है कि कोई भी व्यक्ति या संस्था इसके द्वारा मरीजों के बहुत जरुरी इनफार्मेशन को स्टोर कर मेडिकल फील्ड के सभी लोगो से डाटा शेयर किया जा सकता ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है है | जिससे की मरीजों को फालतू का बहुत सारा डॉक्यूमेंट लेकर चलना न पड़े और एक ही जगह सभी जानकारी मिल जाये

3 Security and डिफेन्स एजेंसियां भी ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी का प्रयोग अपराधियों तथा उनके द्वारा अंजाम

ब्लाकचैन क्या है

तो दोस्तों यह तो थी टेक्निकल भाषा में ब्लॉकचेन की परिभाषा इसको हमने आसान भाषा में आप को समझाया है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी data store करने के भी काम आते है जिसमें डेटा छोटे-छोटे ब्लॉक के रूप में इंटरनेट के द्वारा ब्लॉकचेन server पर सेव हो जाते हैं

ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी में बहुत सारे कंप्यूटर आपस में इंटरनेट द्वारा जोड़कर data ट्रांजैक्शन को प्रोसीड करते हैं मतलब की इसमें किसी एक कंप्यूटर का उपयोग नहीं होता इसमें बहुत सारे कंप्यूटर्स आपस में जुड़े होते हुए होते हैं

दूसरी बात ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में काम सिर्फ एक ही कंप्यूटर पर नहीं होता हर एक कंप्यूटर के द्वारा प्रोसीजर कंप्लीट किया जाता है

इससे होता यह है कि सभी कंप्यूटरों में डाटा एक ही साथdata बदल नहीं जाता है जबकि नॉर्मल स्टोरेज सिस्टम में अगर किसी एक कंप्यूटर या मोबाइल के द्वारा ट्रांजैक्शन करते हैं तब उसी मोबाइल या कंप्यूटर में अपडेट होने के बाद वह main server में दिखाई देता है

Career in Blockchain Technology: ब्लॉकचेन डेवलपर बनकर करें लाखों की कमाई, जानिए कोर्स और कॉलेज की पूरी डिटेल

Career in Blockchain Technology: ब्लॉकचेन डेवलपर बनकर करें लाखों की कमाई, जानिए कोर्स और कॉलेज की पूरी डिटेल

पंकज कुमार | Edited By: रवि मल्लिक

Updated on: Jul ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है 04, 2022 | 1:12 PM

Career Guidance: आजकल पूरी दुनिया में क्रिप्टोकरेंसीका काफी क्रेज है. भारत में इस बारे में आए दिन चर्चा होती रहती है. इस साल अपने बजट स्पीच में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा था कि भारतीय रिज़र्व बैंक जल्द ही ‘डिजिटल रुपया’ पेश करेगा. आरबीआई (RBI) की यह डिजिटल करेंसी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (Blockchain Technology) पर आधारित होगी. इसे सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी का नाम दिया जाएगा. पीएम मोदी ने भी कहा कि इससे डिजिटल इकॉनमी को काफी बल मिलेगा. यह डिजिटल रुपया फिनटेक से जुड़े सेक्टर को अनेक अवसर देगा.

क्या हैं ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी?

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी एक प्लेटफॉर्म हैं जहां ना सिर्फ डिजिटल करेंसी बल्कि किसी भी चीज को डिजिटल बनाकर उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है. आसान शब्दों में कहें तो ब्लॉकचेन एक डिजिटल बहीखाता हैं. जो भी ट्रांजैक्शन इस पर होता है, वो चेन से जुड़े हर कंप्यूटर पर दिखाई देता है. इसे क्रिप्टोकरेंसीज का बैकबोन कहा जाता है. लेकिन इसका इस्तेमाल सिर्फ क्रिप्टोकरेंसीज (Cryptocurrency) में ही नहीं बल्कि और भी कई क्षेत्रों में होता है. यह एक सुरक्षित और डीसेंट्रलाइज्ड टेक्नोलॉजी है जिसे हैक कर पाना लगभग नामुमकिन है.

ब्लॉकचेन तकनीक के जरिए कम लागत में पारदर्शी तरीके से सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सकता है. इस तकनीक को लेकर बैंकिंग और हेल्थ सेक्टर सबसे अधिक सक्रिय है. इस तकनीक पर आधारित नए-नए स्टार्टअप भी खुल रहे हैं, और इस कारण रोजगार के नए अवसर पैदा हुए हैं. एक अनुमान के मुताबिक, ग्लोबल मार्किट में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी की धूम मचने वाली है. देश-विदेश की बड़ी आईटी कंपनियां ब्लॉकचेन प्रोफेशनल्स के लिए शानदार करियर के अवसर प्रदान कर रही हैं. ऐसे में ब्लॉकचेन डेवलपर बनकर बेहद सफल करियर बनाया जा सकता है.

ब्लॉकचेन डेवलपर क्या करते हैं?

ब्लॉकचेन डेवलपर ब्लॉकचेन प्रोटोकॉल डिजाइन करने के अलावा स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट बनाते हैं. स्किल्ड प्रोफेशनल्स ब्लॉकचेन आर्किटेक्चर और प्रोटोकॉल के आधार पर स्मार्ट सॉफ्टवेयर डेवलप करते हैं. इसी आधार पर डिजिटल जानकारी को रिकॉर्ड और डिस्ट्रीब्यूट किया जाता है. ब्लॉकचेन लेनदेन के रिकॉर्ड बदला, हटाया या नष्ट नहीं किया जा सकता है. डेवलपर ब्लॉकचेन नेटवर्क की सुरक्षा को डिजाइन करने के अलावा उसे यूज़र फ्रेंडली बनाते हैं.

1. इस फील्ड में करियर बनाने के लिए उम्मीदवार को कंप्यूटर साइंस या इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी का ज्ञान होना आवश्यक है. उम्मीदवार किसी खास स्ट्रीम में ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री हासिल करने के बाद इस तकनीक को सीख सकते हैं. ब्लॉकचेन डेवलपर बनने के लिए इस टेक्नोलॉजी को प्रभावी ढंग से सीखना चाहिए. उम्मीदवार अपनी सुविधा के अनुसार इससे संबंधित कोई भी कोर्स कर सकते हैं.

क्रिप्टोग्राफी क्या हैं? (What is cryptography in hindi)

क्रिप्टोग्राफी सामान्य लेख को बायनरी (binary) रूप में परिवर्तित करता है यानी कि सिंपल शब्दों को अंको में परिवर्तित करता है, क्रिप्टोग्राफी के द्वारा डाटा को स्टोर किया जाता है एवं डाटा को ट्रांसमिट कराया जाता है, इसे किसी विशेष रूप में ही ट्रांसमिट किया जाता है। साथ ही जिस व्यक्ति को क्रिप्टोग्राफी के द्वारा डाटा भेजा जाता है केवल ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है वे ही इसे समझ सकते हैं या Decode कर सकते हैं। यह डाटा को चोरी होने से बचाता है एवं पूरी तरह से डाटा को सुरक्षित रखता हैं।

यूनिक आइडेंटिफायर कोड्स को हैश कहते हैं। जिस तरह से हर व्यक्ति का फिंगरप्रिंट अलग होता है उसी तरह से हैश भी अलग-अलग होता है। इसलिए इसे यूनिक कहते हैं। हैश को अंको और अल्फाबेट से निरूपित( represent) करते हैं। उदाहरण के तौर पर 11SY28T, हैश सभी ब्लॉक्स में होता है एवं सभी ब्लॉक्स हैश के माध्यम से एक-दूसरे से ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है जुड़े रहते हैं।

ब्लॉकचेन कैसे काम करता है? (How does Blockchain work?)

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी ब्लॉक पर आधारित एवं कार्य करने वाला सिस्टम हैं। ब्लॉक में उपयोगकर्ता की जानकारी एवं ट्रांजैक्शन हिस्ट्री होती है, मान लीजिए कि 3 ब्लॉक होते हैं ये तीन ब्लॉक एक दूसरे से जुड़े रहते हैं इन तीनों में हैश होता है। अगर किसी भी ब्लॉक को बदला जाता है तो अन्य ब्लॉक को बदलावों का पता चल जाता है, कंप्यूटर के द्वारा करोड़ों अरबों हैश को कुछ सेकंड में ही कैलकुलेट किया जाता हैं।

ब्लॉकचेन को प्रूफ ऑफ वर्क भी कहते हैं। ब्लॉकचेन कंप्यूटर के द्वारा सारे कामों की सूची तैयार करके अपने पास स्टोर करता हैं। अगर कोई यूजर ट्रांजैक्शन करता है तो ट्रांजैक्शन किसके द्वारा किया गया है और ट्रांजैक्शन कहां किया गया है। इसके अलावा ट्रांजैक्शन की राशि को ब्लॉकचेन ब्लॉक के अंदर स्टोर करता हैं, आवश्यकता पड़ने पर ब्लॉक के डेटाबेस को देखा एवं पढ़ा जा सकता हैं।

ब्लॉकचेन की विशेषताएं (Features of blockchain)

Peer to peer ट्रांजैक्शन के चलते किसी थर्ड पार्टी का दखल खत्म हो जाता है ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है जिससे किसी भी उद्योग या व्यापार के कीमत में कमी की जा सकती हैं। और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पूरी तरह से सुरक्षित है इसलिए इस पर भरोसा किया जा सकता हैं। इसके कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्न है।

  • बैंकों में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का प्रयोग करके इस क्षेत्र में डाटा सिक्योरिटी, सर्विस डिलीवरी की गति, भ्रष्टाचार में कमी आदि की जा सकती हैं।
  • ब्लॉकचेन के कारण डेटाबेस सुरक्षित रहता है एवं ट्रांजैक्शन समय में कमी आती हैं।
  • ब्लॉकचेन तकनीक में एक बार होने वाले ट्रांजैक्शन के रिकॉर्ड को हटाया नहीं जा सकता, जिसके कारण इससे वर्तमान में होने वाले बड़े अपराधियों को रोका जा सकता हैं।
  • ब्लॉकचेन के जरिए सारा डाटा एक जगह स्टोर हो सकेगा इसके साथ साथ हर रिकॉर्ड की जानकारी तुरंत हासिल करने की सहूलियत भी रहेगी।
  • इलेक्ट्रॉनिक डेटाबेस होने के कारण पेपर वर्क कम होने से पर्यावरणीय स्तर पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
  • शिक्षा के क्षेत्र में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग करके पेपर लीक जैसे मामलों पर लगाम कसी जा सकती हैं।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है ? | blockchain technology लोकप्रिय क्यों है

पिछले कुछ वर्षों में, आपने लगातार ‘ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी’ शब्द सुना है, शायद बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी के बारे में। वास्तव में, आप खुद से पूछ रहे होंगे, “ब्लॉकचेन तकनीक क्या है?” ऐसा लगता है कि ब्लॉकचैन एक झूठ है, लेकिन एक काल्पनिक अर्थ में, क्योंकि इसका ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है कोई वास्तविक अर्थ नहीं है जिसे आम आदमी आसानी से समझ सके। “ब्लॉकचेन तकनीक क्या है” का उत्तर देना अनिवार्य है, जिसमें ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है उपयोग की जाने वाली तकनीक, यह कैसे काम करती है, और यह डिजिटल दुनिया में कैसे महत्वपूर्ण होती जा रही है।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है

ब्लॉकचेन जानकारी रिकॉर्ड करने की एक विधि है जो सिस्टम को बदलना, हैक करना या हेरफेर करना असंभव या कठिन बना देती है। एक ब्लॉकचेन एक वितरित खाता बही है जो ब्लॉकचेन में भाग लेने वाले कंप्यूटरों के नेटवर्क में लेनदेन को डुप्लिकेट और वितरित करता है।

ब्लॉकचैन प्रौद्योगिकी एक संरचना है जो कई डेटाबेस में जनता के लेन-देन के रिकॉर्ड, जिसे ब्लॉक के रूप में भी जाना जाता है, को “श्रृंखला” के रूप में जाना जाता है, जो पीयर-टू-पीयर नोड्स के माध्यम से जुड़े नेटवर्क में संग्रहीत करता है। आमतौर पर, इस स्टोरेज को ‘डिजिटल लेज़र’ कहा जाता है।

इस लेज़र में प्रत्येक लेन-देन मालिक के डिजिटल हस्ताक्षर द्वारा अधिकृत है, जो लेन-देन को प्रमाणित करता है और इसे छेड़छाड़ से बचाता है। इसलिए, डिजिटल लेज़र में मौजूद जानकारी अत्यधिक सुरक्षित है।

सरल शब्दों में, डिजिटल लेज़र एक नेटवर्क में कई कंप्यूटरों के बीच साझा की गई Google स्प्रेडशीट की तरह है, जिसमें वास्तविक खरीद के आधार पर लेनदेन संबंधी रिकॉर्ड संग्रहीत किए जाते हैं। आकर्षक कोण यह है कि कोई भी डेटा देख सकता है, लेकिन वे इसे भ्रष्ट नहीं कर सकते।

ब्लॉकचेन लोकप्रिय क्यों है?

मान लीजिए आप अपने बैंक खाते से अपने परिवार या दोस्तों को पैसे ट्रांसफर कर रहे हैं। आप ऑनलाइन बैंकिंग में लॉग इन करेंगे और दूसरे व्यक्ति को उनके अकाउंट नंबर का उपयोग करके राशि ट्रांसफर करेंगे। जब लेन-देन हो जाता है, तो आपका बैंक लेन-देन के रिकॉर्ड को अपडेट कर देता है। ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है यह काफी आसान लगता है, है ना? एक संभावित समस्या है जिसे हम में से अधिकांश लोग उपेक्षा करते हैं।

इस प्रकार के लेनदेन से बहुत जल्दी छेड़छाड़ की जा सकती है। जो लोग इस सच्चाई से परिचित हैं वे अक्सर इस प्रकार के लेन-देन का उपयोग करने से सावधान रहते हैं, इसलिए हाल के वर्षों में तीसरे पक्ष के भुगतान अनुप्रयोगों का विकास हुआ है। ब्‍लॉकचेन टेक्‍नोलॉजी क्‍या है लेकिन यह भेद्यता अनिवार्य रूप से ब्लॉकचेन तकनीक क्यों बनाई गई है। तकनीकी रूप से, ब्लॉकचैन एक डिजिटल लेज़र है जो हाल ही में बहुत अधिक ध्यान और कर्षण प्राप्त कर रहा है। लेकिन यह इतना लोकप्रिय क्यों हो गया है? खैर, आइए पूरी अवधारणा को समझने के लिए इसमें खुदाई करें।

जानें अखिर क्या है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी, जिस पर चलेगा RBI का 'डिजिटल रुपया'

ताजा आंकड़ों के अनुसार डिस्कॉम पर बिजली उत्पादकों, पारेषण कंपनियों और व्यापारियों का बकाया पिछले छह माह में 24,680 करोड़ रुपये घट गया है। हालांकि यह राहत अभी भी उतनी नहीं है जितनी होनी चाहिए। अभी भी राज्यों का वितरण कंपनियों पर बकाया अच्छा खासा है। ताजा कटौती के बाद अब कुल बकाया 1,13,269 करोड़ रुपये रह गया है।

डॉलर के मुकाबले रुपया 34 पैसे बढ़कर 81.38 प्रति डॉलर पर

डॉलर के मुकाबले रुपया 34 पैसे बढ़कर 81.38 प्रति डॉलर पर

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.63 पर खुला। कारोबार के दौरान यह 81.38 के उच्चस्तर और 81.64 के निचले स्तर तक गया। अंत में रुपया 34 पैसे की तेजी के साथ 81.38 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। डॉलर के मुकाबले रुपये का पिछला बंद भाव 81.72 प्रति डॉलर था। इस बीच दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.29% की गिरावट के साथ 106.51 पर रह गया।

पी-नोट्स के जरिए निवेश बढ़़कर 97,784 करोड़ रुपये पर

पी-नोट्स के जरिए निवेश बढ़़कर 97,784 करोड़ रुपये पर

भारतीय पूंजी बाजार में पार्टिसिपेटरी नोट्स (पी-नोट्स) के जरिये निवेश अक्टूबर के अंत तक बढ़कर 97,784 करोड़ रुपये हो गया। यह एक साल का उच्चस्तर है। यह लगातार तीसरा महीना है जब इस मार्ग के जरिये पूंजी बाजार में निवेश बढ़ा है। पी-नोट्स पंजीकृत पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) द्वारा उन विदेशी निवेशकों को जारी किए जाते हैं जो बिना सीधे पंजीकरण के भारतीय शेयर बाजारों में निवेश करना चाहते हैं।

More than 1 Million users are using FlipItMoney to stay updated about the business and finance world! Join FlipItMoney now and take smart investment decisions!

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 306
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *