सबसे अच्छी रणनीति चुनना

शीर्ष 12 ट्रेडर्स

शीर्ष 12 ट्रेडर्स
PKL 2022 Top Raider and Defender: प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 के टॉप रेडर, डिफेंडर और सबसे ज्यादा अंक: PKL Season 9 Live Updates

कैट ने ई-कॉमर्स पोर्टल भारत-ई-मार्केट का लोगो लॉन्च कर ई-कॉमर्स व्यापार में किया धमाका

कैट (Confederation of All India Traders) ने घोषणा की है कि भारत-ई-मार्केट पोर्टल पर चीन में बना कोई भी सामान नहीं बेचा जायेगा. यह पोर्टल इस साल दिसंबर तक शुरू कर दिया जाएगा.

Updated on: Oct 30, 2020 | 7:12 PM

कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने अपने महत्वाकांक्षी ई-कॉमर्स पोर्टल ‘भारत-ई-मार्केट’ का लोगो लॉन्च करते हुए देश के भारत के व्यापारियों और ई-कॉमर्स (E-commerce) व्यापार को विदेशी कंपनियों के चंगुल से आजाद कराने के अपने मजबूत इरादों की घोषणा कर दी है. “मेरे लिए, मेरे देश के लिए” को भारत-ई-मार्केट (Bharat-e-market) की टैग लाइन को “लोगो” के साथ जोड़ते हुए कैट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल पर वोकल और आत्मनिर्भर भारत मिशन को देश के व्यापारियों और ई-कॉमर्स व्यापार के लिए अपना स्टेटमेंट जारी किया है. कैट ने घोषणा की है कि भारत-ई-मार्केट पोर्टल पर चीन में बना कोई भी सामान नहीं बेचा जायेगा. यह पोर्टल इस साल दिसंबर तक शुरू कर दिया जाएगा.

भारत-ई-मार्केट के ‘लोगो’ मे खूबसूरत चटकीले रंगों का इस्तेमाल किया गया है जिससे देश के युवा खुद को जोड़ सकें. भारत-ई-मार्केट का “लोगो” सही मायनों में भारतीयता का प्रतीक है. ये लोगो ब्रांडिंग और कम्युनिकेशन क्षेत्र में देश की शीर्ष बड़ी कंपनियों में एक आर के स्वामी बीबीडीओ ने तैयार किया है.

इस मौके पर वीडियो कॉन्फ्रेंस में भाग लेते हुए केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने भारत-ई-मार्केट को लॉन्च करने के कैट के निर्णय की सराहना करते हुए कहा कि निश्चित रूप से यह कदम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल पर वोकल और आत्मनिर्भर भारत को अमली जामा पहनाने के लिए मील का पत्थर बनेगा. उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि सरकार किसी ई-कॉमर्स कंपनी की मनमानी को सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी और यदि कोई भी सरकार की नीतियों का उल्लंघन करेगा तो उसे सख़्त कारवाई का सामना करने के लिए तैय्यार रहना चाहिए. उन्होंने कैट द्वारा समय समय पर डिजिटल भुगतान और डिजिटल तकनीक से व्यापारियों को जोड़ने के प्रयासों की सराहना की और कहा कि अब व्यापार करने का तौर तरीका बदल रहा है और व्यापारियों को भी अब अपने व्यापार को तकनीक से जोड़ना जरूरी है.

इस मौके पर अंतरराष्ट्रीय वास्तु विशेषज्ञ डॉ. खुशदीप बंसल के साथ देश के ट्रांसपोर्ट सेक्टर के सबसे बड़े राष्ट्रीय संगठन आल इंडिया ट्रांसपोर्ट शीर्ष 12 ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन के चैयरमैन प्रदीप सिंघल, आल इंडिया एफएमसीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष धैर्यशील पाटिल, इंडिया सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज मोहिंद्रू, आल इंडिया मोबाइल रिटेलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अरविंदर खुराना और भारतीय किसान संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश सिरोही ने भारत-ई-मार्केट के “लोगो” को संयुक्त रूप से लॉन्च किया. इस मौके पर मास्टरकार्ड, एमवे, टैलीं, एचडीएफसी बैंक, राम ग्रूप, पेमेंट गेटवे कंपनी रेजर पे सहित दूसरी कॉर्पोरेट कंपनियों के शीर्ष अधिकारी भी मौजूद थे. इसके साथ ही दिल्ली सहित देश के विभिन्न राज्यों के प्रमुख व्यापारी नेता भी शामिल हुए वहीं दूसरी ओर देश के सभी राज्यों के शीर्ष व्यापारी नेता भी बड़ी संख्या में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से लॉन्च समारोह में शामिल हुए.

कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि कोरोना लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन व्यापार में बड़ी वृद्धि हुई है. कोविड से पहले भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय लगभग 7% था वह अब वर्तमान में लगभग 24% हो गया है. शहरी क्षेत्रों में 42% इंटरनेट उपयोगकर्ता अब ई-कॉमर्स के माध्यम से अपनी खरीदारी कर रहे हैं. हालांकि, भारत में व्यापारियों की दुकानें भारतीय अर्थव्यवस्था में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहेंगी जिन्हे कोई मिटा नहीं नहीं सकता मगर ई-कॉमर्स व्यापार का नया तरीका है जिसको देश के व्यापारियों द्वारा एक अतिरिक्त व्यापार के रूप में अपनाया जाना भी आवश्यक बन गया है.

भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि भारत में स्मार्टफोन और इंटरनेट के तेजी से बढ़ते इस्तेमाल तथा केंद्र सरकार द्वारा बड़ी संख्यां में पंचायतों को डिजिटल तकनीक से साथ जोड़े जाने के चलते देश के ई-कॉमर्स बाजार की कमाई वर्ष 2026 तक 200 बिलियन डॉलर होने की उम्मीद है जो वर्तमान में लगभग 45 बिलियन डॉलर है. देश में 5G तकनीक के जल्द शुरू होने के बाद ई-कॉमर्स व्यापार तेजी से आगे बढ़ेगा और बड़ी संख्यां में लोग डिजिटल कॉमर्स को अपनाएंगे. टेक्नॉलॉजी ने डिजिटल पेमेंट, हाइपर-लोकल लॉजिस्टिक्स, एनालिटिक्स से संचालित कस्टमर एंगेजमेंट और डिजिटल विज्ञापनों जैसे नए विचारों को जन्म दिया है जिससे भी भारत में ई-कॉमर्स व्यापार बढ़ेगा. इसी को ध्यान में रखते हुए और देश के व्यापारियों को आगे बढ़ाने के इरादे से “भारत-ई-मार्केट” पोर्टल को शुरू करने का निर्णय कैट ने लिया है.

भरतिया और खंडेलवाल ने केंद्र सरकार से आग्रह करते हुए कहा कि भारत में ई-कॉमर्स व्यापार को व्यवस्थित तरीके से चलाने के लिए ई-कॉमर्स पॉलिसी को जल्द से जल्द घोषित किया जाए जिसमें एक मजबूत रेगुलेटरी अथॉरिटी के गठन का प्रावधान हो और इसी बीच एफडीआई पॉलिसी के प्रेस नोट 2 की विसंगतियों और अस्पष्ट प्रावधानों को दूर करते हुए सरकार एक नया प्रेस नोट जारी करे जिससे विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों की मनमानी और पॉलिसी के नियमों के उल्लंघन को समाप्त किया जा सके.

कपड़ा, रेडीमेड और फुटवियर पर 12 फीसद जीएसटी स्थगित करें

देश के व्यापारियों की शीर्ष संस्था कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स कैट के नेतृत्व में व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल ने कपड़ा, रेडीमेड और फुटवियर पर 12 फीसदी जीएसटी के विरोध में राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत गुरुवार।

कपड़ा, रेडीमेड और फुटवियर पर 12 फीसद जीएसटी स्थगित करें

सतना। नईदुनिया प्रतिनिधि

देश के व्यापारियों की शीर्ष संस्था कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स कैट के नेतृत्व में व्यापारियों के प्रतिनिधि मंडल ने कपड़ा, रेडीमेड और फुटवियर पर 12 फीसदी जीएसटी के विरोध में राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत गुरुवार दोपहर 12ः00 बजे कैट प्रदेश सचिव अशोक दौलतानी के मार्गदर्शन में एसडीएम सुरेश जादव को केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण जी के नाम ज्ञापन सौंपा। कैट के जिलाध्यक्ष पवन मलिक ने बताया कि 2 सूत्रीय ज्ञापन में कपड़ा, रेडीमेड और फुटवियर पर 12 फीसद जीएसटी का उद्ग्रहण कार्यान्वयन को स्थगित करने एवं आयकर रिटर्न दाखिल करने की तिथि का विस्तार किए जाने की मांग को लेकर व्यापारियों के राष्ट्रव्यापी अभियान में आज देश भर के जिलों में ज्ञापन सौंपा गया है।

कपड़ा बाजार के बंद को कैट का पूर्ण समर्थन : कैट प्रदेश सचिव अशोक दौलतानी ने बताया कि सतना क्लॉथ मर्चेट एसोसिएशन (सी. एम.ए.) एवम सभी कपड़ा बाजार के पदाधिकारियों के आह्वान पर कपड़े पर किए जा रहे अनुचित जीएसटी वृद्धि के विरोध में आज सतना का संपूर्ण कपड़ा व्यवसाय बंद किया है। कपड़ा बाजार के व्यापारियों के इस बंद का पूर्ण समर्थन करते हुए कैट के पदाधिकारियों ने कपड़ा मार्केट में पहुंचकर अपना विरोध दर्ज कराया।

जीएसटी पर आम सहमति बने : जिलाध्यक्ष पवन मलिक ने बताया कि कैट ने नए जीएसटी कर की दर में वृद्धि के कार्यान्वयन को स्थगित करने का अनुरोध करते हुए केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष की अध्यक्षता में एक धटास्क फोर्सध का गठन करने की मांग की है, जिसमें व्यापार के प्रतिनिधि और सरकार के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हों। इस टास्क फोर्स में कपडे एवं फुटवियर पर जीएसटी दर की वृद्धि पर चर्चा होकर एक आम सहमति बने।

Satna News : पिता का अंतिम संस्कार कर प्रयागराज से सतना लौट रहे परिवार की कार पलटी, एक की मौत, छह घायल

व्यापारी संस्थाओं का समर्थन : किराना व्यापारी संघ, जनरल मर्चेंट एसोसिएशन, रेडीमेड वस्त्र व्यापारी संघ, सतना मोटर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, फुटवियर एसोसिएशन, क्लॉथ मर्चेंट एसोसिएशन, इलेक्ट्रॉनिक सेलर्स एसोसिएशन, प्रिंटर्स एसोसिएशन, इलेक्ट्रिक मर्चेंट एसोसिएशन, हार्डवेयर पेंट्स एंड मशीनरी एसोसिएशन, राइस मिलर्स एसोसिएशन, श्रीलाल बहादुर शास्त्री व्यापारी संघ, ट्रांसपोर्टर नगर व्यापारी संघ, स्टेशनरी विक्रेता संघ, विक्रेता संघ, खाद बीज व्यापारी संघ, प्लास्टिक एसोसिएशन, आदि संस्थाओं के प्रमुख प्रतिनिधियों ने शामिल होकर कैट को समर्थन प्रदान किया है।

Singrauli Police on Road : सिंगरौली में पुलिस ने चलाया जन जागरुकता अभियान

यह रहे उपस्थित : चंद्रशेखर अग्रवाल, पवन मलिक, रामावतार चमड़िया, मनोहर वाधवानी, राजेश अग्रवाल, नरेंद्र चंद्र गुप्ता, जितेंद्र साबनानी, अशोक वाधवानी, सुधीर आहूजा, रुपेश बलेचा, सचिन जैन, राकेश चड्ढा, सोहन शर्मा, ओमप्रकाश केसरवानी, गोविंद छाबड़िया, अनिल जव्हरानी, संजय अग्रवाल, कुद्दूस अंसारी, जसविंदर सिंह भाटिया बब्बल, अनूप मंघनानी, बिहारी मंघनानी, तंजीम अख्तर, रामकुमार अग्रवाल, सुधीर खेमका, शुभनथ चौधरी, अमन जायसवाल, आदि प्रमुख व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।

देश भर के कारोबारी PM मोदी के साथ, NDA के लिए चुनावों में करेंगे वोट

PM Modi

नईदिल्लीदेश भर के व्यापारियों के शीर्ष संगठन कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने विभिन्न राजनैतिक दलों के चुनाव घोषणा पत्रों का व्यापक और बारीक अध्ययन करने के बाद और देश के भविष्यको मजबूत बनाने को ध्यान में रखते हुए देश भर में भारतीय जनता पार्टी का समर्थन करने और 7 करोड़ व्यापारियों को एक वोट बैंक के रूप में लामबंद करते हुए वर्तमान लोकसभा चुनावों में भाजपाएवं एनडीए के सहयोगी दलों के पक्ष में मतदान करने का निर्णय लिया है ।

40 हजार से ज्यादा शीर्ष 12 ट्रेडर्स व्यापारी संगठनों का साथ

देश भर के 40 हजार से अधिक व्यापारी संगठनों के माध्यम से कैट इस सन्देश को देश के कोने कोने में व्यापारियों कोपहुंचाएगा और उन्हें भाजपा के पक्ष में समर्थन एवं मतदान करने का आग्रह करेगा वहीँ कैट के कानाफूसी अभियान के अंतर्गत देश भर में व्यापारी अपने प्रतिष्ठान में आने वाले ग्राहकों को भी भाजपा केसमर्थन के लिए प्रेरित करेंगे तथा अपने 30 करोड़ शीर्ष 12 ट्रेडर्स कर्मचारियों से भी भाजपा को वोट देने के लिए कहेंगे ! देश के विभिन्न राज्यों में लगभग 195 लोकसभा सीेटें ऐसी हैं जिन पर व्यापारियों का प्रभुत्व हैऔर व्यापारियों का रूख इन सीटों पर चुनाव परिणाम तय कर सकता है ।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी. सी. भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की कैट ने यह निर्णय देश भर के प्रमुख व्यापारी नेताओं से विचार विमर्श कर और कल दिल्ली मेंआयोजित विभिन्न राज्यों के व्यापारी नेताओं की हुई एक बैठक में मिले फीडबैक के बाद लिया गया है ! देश के व्यापारी वर्ग ने इन चुनावों में एक निर्णायक भूमिका निभाने का संकल्प लिया हुआ है !

देश के राजनैतिक परिदृश्य में एक तरफ भाजपा का नेतृत्व वाला एनडीए गढ़बंधन है जो एक होकर पूरे देश में चुनाव लड़ रहा है तो दूसरी तरफ विभिन्न दलों का महागठबंधन है जिसके राजनैतिक दलविभिन्न राज्यों में एक दूसरे के खिलाफ ही चुनाव लड़ रहे हैं , इस वजह से वो देश में एक मजबूत और स्थायी सरकार देने में सक्षम नहीं है और भारत का व्यापार एवं अर्थव्यवस्था उनके सत्ता में आने सेसदा अस्थिर ही रहेगी !

श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने कहा की आज देश को एक ऐसे मजबूत नेता की आवश्यकता है जिसमें दूरदृष्टि हो,निर्णय लेने की क्षमता हो और सत्ता मैं आने के बाद देश को आगे ले जाने की ललकहो ! निर्णय बेशक कठोर हों और राजनैतिक दृष्टि से संभवत : फायदेमंद न भी हो लेकिन राष्ट्रहित में हो ! गत पांच वर्षों में हमने देखा है की प्रधानमंत्री श्री मोदी ने अनेक निर्णय ऐसे लिए जिनसेराजनैतिक नुक्सान ज्यादा हो सकता था किन्तु श्री मोदी ने दृढ़ता से यह निर्णय लिए जिनमें जीएसटी एवं नोटबंदी प्रमुख हैं ! जो निर्णय लिए गए उनमें व्यापारियों एवं अन्य लोगों की मांग पर आवश्यकसंशोधन करने में भी प्रधानमंत्री मोदी ने कतई देर नहीं लगाई ! देश में व्याप्त भ्रष्टाचार और इंस्पेक्टर राज को ख़त्म करना है और बेलगाम बाबूशाही पर शिकंजा भी कसना है और यह काम इस समयकेवल मोदी जैसा दृढ़ निश्चयी

व्यक्ति ही कर सकता हैउन्होंने यह भी कहा की कैट ने कांग्रेस और भाजपा के चुनाव घोषणा पत्रों का बारीकी से अध्यन किया और पाया की भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में व्यापारियों के मुद्दों को प्रमुखता और वरीयता देते हुएअपने संकल्प पत्र में शामिल किया है ।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

PKL 2022 Top Raider and Defender: प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 के टॉप रेडर, डिफेंडर और सबसे ज्यादा अंक: PKL Season 9 Live Updates

PKL 2022 Top Raider and Defender: प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 के टॉप रेडर, डिफेंडर और सबसे ज्यादा अंक: PKL Season 9 Live Updates

PKL 2022 Top Raider and Defender: प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 के टॉप रेडर, डिफेंडर और सबसे ज्यादा अंक: PKL Season 9 Live Updates

PKL 2022 Top Raider and Defender: वीवो प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 (Vivo Pro Kabaddi League Season 9) की शुरुआत 7 अक्टूबर को दबंग दिल्ली बनाम यू मुम्बा मैच के साथ हुई थी। 12 टीमों (PKL Teams 2022) के बीच हर मैच रोमांचक और महत्वपूर्ण हो रहा है। यहां हम आपको हर मैच के साथ टॉप रेडर (PKL 2022 Top Raiders), टॉप डिफेंडर (PKL 2022 Top Defenders) और सबसे ज्यादा अंक (PKL 2022 Most Points) कमाने वाले खिलाड़ी के बारे में बताते रहेंगे। खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

PKL 2022 Top Raider and Defender: प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 के टॉप रेडर, डिफेंडर और सबसे ज्यादा अंक: PKL Season 9 Live Updates

PKL Teams 2022 List : वीवो प्रो कबड्डी में खेलने वाली 12 टीम

बंगाल वॉरियर्स (Bengal Warriors)
बेंगलुरु बुल्स (Bengaluru Bulls)
दबंग दिल्ली (dabang Delhi)
गुजरात जायंट्स (Gujarat Giants)
हरियाणा स्टीलर्स (Haryana Steelers)
जयपुर पिंक पैंथर्स (Jaipur Pink Panthers)
पटना पाइरेट्स (Patna Pirates)
पुणेरी पल्टन (Puneri Paltan)
तमिल थलाइवाज (Tamil Thalaivas)
तेलुगु टाइटंस (Telugu Titans)
यू मुंबई (U Mumba)
यूपी योद्धा (Up Yoddhas)

PKL 2022 Top Raiders

अर्जुन देशवाल- 242
भरत- 229
नवीन कुमार- 209
मनिंदर सिंह – 208
नरेंदर- 200

PKL 2022 Top Defenders

अंकुश -67
मोहम्मद रेजा- 57
सौरव नांदल- 52
गिरीश एरनाक – 48
सुनील – 48

PKL 2022 Most Points

अर्जुन देशवाल- 242
भरत – 232
नवीन कुमार – 213
मनिंदर सिंह- 210
नरेंदर- 204

प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 का लाइव प्रसारण कहां, जानिए लाइव स्ट्रीमिंग डिटेल्स
प्रो कबड्डी लीग के सभी मैचों का प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क पर हो रहा है। आप स्टार स्पोर्ट्स 1 और स्टार स्पोर्ट्स 2 पर कबड्डी के सभी मैचों का आंनद ले सकते हैं।

प्रो कबड्डी लीग सीजन 9 की लाइव-स्ट्रीमिंग भारत में डिज्नी प्लस हॉटस्टार एप पर देखी जा सकती है। इसके अलावा आप मैच से जुड़ी खबरें, लाइव अपडेट्स और रिकॉर्ड्स Hindi.InsideSport.In पर देख सकते हैं।

Vivo Pro Kabaddi League 2022 और अन्य खेल से सम्बंधित खबरों को पढ़ने के लिए हमें गूगल न्यूज (Google News) पर फॉलो करें।

रेटिंग: 4.67
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 853
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *